Monday, October 9, 2017

9 अक्टूबर को 'विश्व डाक दिवस’ और 9-15 अक्टूबर तक 'राष्ट्रीय डाक सप्ताह' मनाएगा डाक विभाग

भारत जैसे विशाल और विविधता पूर्ण देश में सांस्कृतिक आदान-प्रदान, व्यापार, घरेलू अर्थव्यवस्था, सामाजिक एकीकरण को सहेजे डाक विभाग का विशाल तंत्र न केवल हर दरवाजे पर दस्तक लगाता है बल्कि इंटरनेट के इस युग में हाथ से लिखे गये शब्दों का भावनात्मक महत्व भी बरकरार रहता है। उक्त उद्गार राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव ने जोधपुर में 'विश्व डाक दिवस' की पूर्व संध्या पर आयोजित  कार्यक्रम में व्यक्त किये। इस अवसर पर श्री यादव ने राष्ट्रीय डाक सप्ताह के बैनर का विमोचन भी किया। 
डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि  'एक विश्व-एक डाक प्रणाली' की अवधारणा को साकार करने 9 अक्टूबर, 1874 को यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन की स्थापना बर्न, स्विटजरलैण्ड में की गई थी, जिसे कालांतर में  "विश्व डाक दिवस" के रूप में मनाना आरम्भ किया गया। भारत प्रथम एशियाई राष्ट्र था, जो कि 1 जुलाई 1876 को इसका सदस्य बना। कालांतर में वर्ष 1969 में टोकियो, जापान में सम्पन्न यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन, कांग्रेस में इस स्थापना दिवस को "विश्व डाक दिवस" के रूप में मनाने हेतु घोषित किया गया।  तब से पूरी दुनिया में  इस दिन को प्रतिवर्ष धूमधाम मनाया जाता है। विश्व डाक दिवस के क्रम में ही पूरे सप्ताह को राष्ट्रीय डाक सप्ताह के रूप में मनाया जायेगा, जिस दौरान तमाम कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे।
डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के डाक मंडलों और डाकघरों में भी 'विश्व डाक दिवस' और तदन्तर 9 से 15 अक्टूबर तक 'राष्ट्रीय डाक सप्ताह' का आयोजन किया जा रहा है। इस क्रम में 9 अक्टूबर, 2015 को  ’विश्व डाक दिवस’ एवं  राष्ट्रीय डाक सप्ताह के तहत 10 अक्टूबर को बैंकिंग  दिवस, 11 अक्टूबर को डाक जीवन बीमा दिवस, 12  अक्टूबर को फिलेटली दिवस,  15 अक्टूबर को  व्यवसाय विकास दिवस और 14 अक्टूबर को मेल दिवस के रूप में मनाया जायेगा।  श्री यादव ने कहा कि 'विश्व डाक दिवस' पर जिला मुख्यालयों पर डाक विभाग द्वारा एक रैली निकालकर इसका शुभारम्भ किया जायेगा। राष्ट्रीय डाक सप्ताह के दौरान जहाँ  सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार एवं राजस्व अर्जन में वृद्धि पर जोर दिया जायेगा, वहीं उत्कृष्टता हेतु डाक कर्मियों का सम्मान, कस्टमर मीट, डाक सेवाओं की कार्य-प्रणाली को समझने हेतु स्कूली बच्चों द्वारा डाकघर का भ्रमण, पत्र लेखन प्रतियोगिता, फिलेटलिक वर्कशॉप और क़्विज, बचत बैंक व डाक जीवन बीमा मेला,  बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के तहत सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि ग्राम बनाये जाने जैसे तमाम कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। इसके अलावा डाकघरों में पौधारोपण व  स्वच्छता अभियान भी चलाया जाएगा।

इस अवसर पर सहायक निदेशक बी.आर. राठौड़, सीनियर पोस्टमास्टर, जोधपुर प्रधान डाकघर एस. एल. मीना, सहायक डाक अधीक्षक पाल सिंह सिद्धू, विनय खत्री, डाक निरीक्षक पारसमल सुथार, विजय सिंह, जनसंपर्क निरीक्षक मु. रफीक, ललित कुमार सहित तमाम अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे। 
9 अक्टूबर - विश्व डाक दिवस
10 अक्टूबर - बैंकिंग  दिवस
11 अक्टूबर -डाक जीवन बीमा दिवस
12   अक्टूबर -  फिलेटली दिवस
13  अक्टूबर - व्यवसाय विकास दिवस
14  अक्टूबर - मेल दिवस 





Post a Comment