Tuesday, December 29, 2015

जालोर जिले के 25 में से 24 डाकघर सीबीएस से जुड़े, एटीएम का निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने किया उद्घाटन


 डाकघर से जुड़े उपभोक्ताओं के लिए जालोर में बहुप्रतीक्षित एटीएम सेवा सोमवार  से शुरू हो गई। जालोर प्रधान डाकघर प्रांगण में लगे एटीएम का उद्घाटन राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने 28 दिसम्बर, 2015 को शिलापट्ट का अनावरण कर एवं फीता काट कर किया।


इस अवसर पर निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग नवीन टेक्नोलाजी के तहत नित्य अपने ग्राहकों को अच्छी सेवा देने के लिए प्रतिबद्ध है और डाक विभाग की महत्वाकांक्षी परियोजना ’आईटी मार्डनाइजेशन प्रोजेक्ट’ के तहत सीबीएस (कोर बैंकिंग सॉल्यूशन) इस दिशा में एक मील का पत्थर है। उन्होंने  बताया कि राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के अधीन 10 डाक मण्डलों के तहत 565 डाकघरों में से 519 डाकघरों में सीबीएस आरम्भ किया जा चुका है, जिनमें जालोर जनपद के 25 में से रानीवाङा के अतिरिक्त सभी 24 डाकघरों को सीबीएस से जोड़ा जा चुका है। इस साल के अंत तक जालौर में शत-प्रतिशत डाकघर  सीबीएस से जुड़ जायेंगे। 

 एटीएम सेवा का शुभारम्भ करते हुए निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि इसके बाद डाकघरों में बचत खाता रखने वाले लोग भी अब डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकेंगे और बैंकों की तर्ज पर किसी भी डाकघर से लेन.देन और एटीएम सुविधा का उपयोग हो सकेगा। रकम निकासी के साथ ग्राहक अपना स्टेटमेंट भी ले सकेंगे।  उन्होंने कहा कि आरम्भिक तौर पर इस एटीएम का इस्तेमाल डाकघरों के खाताधारक ही कर सकेंगे।  इस एटीएम से एक दिन में 25 हजार रूपये और एक बार में 10 हजार रूपये निकालने की सुविधा होगी।  इस पर किसी प्रकार का निकासी शुल्क नहीं लगेगा।  मात्र 50 रूपये में बचत खाता खुलवाकर एटीएम सेवा का लाभ लिया जा सकता है।  निदेशक श्री यादव ने बताया कि सीबीएस से जुड़ने के बाद डाकघरों में एनीव्हेयर एनीटाइम बैंकिंग के तहत क्रमबद्ध रूप में धीरे-धीरे ग्राहकों को आनलाइन बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, नेट बैंकिंग इत्यादि की सुविधाएँ भी दी जाएँगी। 

 निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी सेवाओं का त्वरित लाभ पहुँचाना है। इसी क्रम में आई. टी. मार्डनाइजेशन प्रोजेक्ट के तहत ग्रामीण शाखा डाकघरों को भी ग्रामीण सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी के अंतर्गत  हाईटेक किया जायेगा और वहाॅँ पर नेटबुक व हैण्डहेल्ड डिवाइस भी दिया जायेगा ।  इसके साथ-साथ मोबाइल थर्मल प्रिन्टर , स्मार्ट कार्ड रीडर, फिंगर प्रिन्ट स्कैनर, डिजिटल कैमरा एवं सिगनेचर व दस्तावेज स्कैनिंग के लिये यन्त्र भी मुहैया कराया जायेगा ताकि ग्रामीण लोगों को इन सुविधाओं के लिये शहरों की तरफ न जाना पडे । 

इस अवसर पर सिरोही मंडल के डाक अधीक्षक श्री देवाराम पुरोहित  ने बताया कि खाताधारकों को एटीएम की सुविधा लेने हेतु एटीएम कार्ड आवेदन फार्म भरकर जमा कराना होगा। इसमें केवाईसी और  नो योर कस्टमर के तहत खाता संख्या से जुड़े दस्तावेज, पहचानपत्र व घर के पते की प्रमाणित प्रति भी उपलब्ध करानी होगी। उन्होंने कहा कि डाकघरों में निवेश की तमाम योजनायें हैं, जिनमें बचत खाता, आवर्ती जमा, सावधि जमा, मासिक आय योजना, पी. पी. एफ., सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम, सुकन्या समृद्धि योजना एवं  राष्ट्रीय बचत पत्र व किसान विकास पत्र में निवेश किया जा सकता है। 

जालोर प्रधान डाकघर के पोस्टमास्टर श्री चूना राम मीना ने इस अवसर पर डाक निदेशक, अधीक्षक और अन्य अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि जालोर प्रधान डाकघर में 42 हजार से ज्यादा बचत खाते संचालित हो रहे हैं  और एटीएम सेवा आरम्भ होने के बाद ग्राहकों की संख्या और बढ़ेगी।

इस अवसर पर सहायक अधीक्षक डाकघर बी.एस. राजपुरोहित, निरीक्षक डाकघर राजेन्द्र सिंह भाटी, सुदर्शन सामरिया, मुकेश कुमार जांगिड़, दिलीप कुमार दवे एवं धीरेन्द्र सिंह सिंधल सहित तमाम अधिकारी-कर्मचारी, बचत अभिकर्तागण इत्यादि उपस्थित रहे।




Sunday, December 27, 2015

डाक विभाग के आई. टी. मॉडर्नाइजेशन प्रोजेक्ट के तहत ग्रामीण शाखा डाकघर भी होंगे हाईटेक


राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के अधीन सिरोही डाक मंडल के कार्य कलापों और व्यवसाय की विस्तृत समीक्षा राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव द्वारा 27 दिसंबर, 2015  को सामुदायिक भवन,पुलिस लाइन, सिरोही में की गई। इस दौरान डाक अधीक्षक से लेकर समस्त सहायक अधीक्षक, डाक निरीक्षक एवं समस्त डाकघरों के पोस्टमास्टर उपस्थित रहे। डाक निदेशक श्री यादव ने बदलते परिवेश में डाकघरों की कार्य प्रणाली, डाक वितरण,  बचत और बीमा सेवाओं, कोर बैंकिंग सर्विस, राष्ट्रीय स्वच्छ्ता अभियान की सिलसिलेवार समीक्षा के साथ  इस वित्तीय वर्ष में अर्जित लक्ष्यों की समीक्षा की तथा अधिक से अधिक नये बचत बैंक खाते, सुकन्या समृद्धि खाते खोलने एवं डाक जीवन बीमा/ग्रामीण डाक जीवन बीमा के व्यवसाय अर्जन बाबत  विस्तार पूर्वक रणनीति पर चर्चा की। 

राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर कहा कि व्यवसायिकता के इस दौर में बिना स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा के कोई भी संगठन उन्नति नहीं कर सकता और डाक विभाग भी इस क्षेत्र में तमाम नये कदम उठा रहा है। डाक विभाग जहाँ नित् नई सेवायें लागू कर रहा है, वहीं लोगों की वर्तमान एवं भावी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिये टेक्नालाजी के स्तर पर भी कई नए कदम उठाये जा रहे हैं। डाकघरों की बचत बैंक सेवा को भी अब कोर बैंकिंग सोल्यूशन (सी.बी.एस.) से जोड़ा जा रहा है, जिससे कोई भी ग्राहक देश के किसी भी कोने में स्थित सी.बी.एस. डाकघर से अपना पैसा निकाल सकता है। इसके अलावा बीमा सेवा को भी मैककैमिश सॉफ्टवेयर के माध्यम से ऑनलाइन किया जा चुका है, इससे ग्रामीण स्तर पर भी बैंकिंग व बीमा क्षेत्रों में क्रान्तिकारी कदम का सूत्रपात होगा और डाकघरों के खाताधारक आने वाले दिनों में नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग  एवं एटीएम सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे।  श्री यादव ने बताया कि सिरोही डाक मण्डल के 46 डाकघरों को कोर बैंकिग सोल्यूशन से जोड़ा जा चुका है तथा सिरोही प्रधान डाकघर, जालोर प्रधान डाकघर एवं आबूरोड उप डाकघर में शीघ्र ही एटीएम सेवा शुरू की जाएगी।

निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी सेवाओं का त्वरित लाभ पहुँचाना है। इस क्रम में आई. टी. मॉडर्नाइजेशन प्रोजेक्ट के तहत ग्रामीण शाखा डाकघरों को भी ग्रामीण सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी के अंतर्गत  हाईटेक किया जायेगा और वहाॅँ पर नेटबुक व हैण्डहेल्ड डिवाइस भी दिया जायेगा ।  इसके साथ-साथ मोबाइल थर्मल प्रिन्टर , स्मार्ट कार्ड रीडर, फिंगर प्रिन्ट स्कैनर, डिजिटल कैमरा एवं सिगनेचर व दस्तावेज स्कैनिंग के लिये यन्त्र भी मुहैया कराया जायेगा ताकि ग्रामीण लोगों को इन सुविधाओं के लिये शहरों की तरफ न भागना पडे । 

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने जिले के सभी पोस्टमास्टरों से रूबरू होते हुए कहा कि फील्ड में  उनकी और पोस्टमैन की कार्य गतिविधियाँ ही विभाग के प्रति लोगों की अवधारणा (इमेज) बनाती हैं, ऐसे में उन्हें ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने की जरुरत है। आज के प्रतियोगी दौर में यह सोचना कि  मात्र काउंटर पर सेवाएँ देकर जनता को आकर्षित किया जा सकता है, उचित नहीं है। ज्यादा राजस्व के लिए हमें खुद लोगों के पास जाना होगा, नियमित संवाद स्थापित करते हुए उन्हें सेवाओं और गुणवत्ता के बारे में जागरूक करना होगा, तभी लक्ष्यों की प्राप्ति हो सकेगी। श्री यादव ने विशेष अभियान चलकर हर घर में हर किसी के पास एक बचत/आवर्ती  खाता खोलने पर जोर दिया। जिले की 10 साल तक की सभी बालिकाओं को सुकन्या समृद्धि योजना से जोड़ने की भी बात कही।  उन्होंने सरकारी-अर्धसरकारी विभागों में डाक मेले लगाकर ”डाक जीवन बीमा” और ”ग्रामीण डाक जीवन बीमा” की लक्ष्य प्राप्ति पर भी जोर दिया। भारत सरकार द्वारा आरंभ की गयी जन सुरक्षा योजनाओं मसलन, प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना एवं अटल पेंशन योजना से भी अधिकाधिक लोगों को जोड़ने की अपील की। 

समीक्षा बैठक के दौरान सिरोही मण्डल के डाक अधीक्षक श्री देवाराम पुरोहित ने कहा  कि डाक विभाग अपने ग्राहकों को बेहतर सेवा देने के लिए तत्पर है और इस दिशा में लोगों से समय-समय पर संवाद के साथ-साथ विभाग ने अपनी सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार पर भी जोर दिया है।  उन्होंने कहा कि सभी अधिकारीयों-कर्मचारियों को लक्ष्य प्राप्ति के लिए एकजुट होकर प्रयास करना होगा, ताकि इस वित्तीय वर्ष में अधिकाधिक राजस्व अर्जन किया जा सके। 

 बैठक के दौरान क्षेत्रीय कार्यालय, जोधपुर  से आए डाक विभाग के निरीक्षक श्री सुदर्शन सामरिया और  श्री राजेंद्र सिंह भाटी ने पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से विभाग की तमाम सेवाओं, नई परियोजनाओं और तदनुसार नित हो रहे बदलावों के बारे में जानकारी दी। 

 इस अवसर पर स्वागत संभाषण अधीक्षक डाकघर श्री देवाराम पुरोहित द्वारा, आभार ज्ञापन सहायक अधीक्षक श्री बी.एस. राजपुरोहित द्वारा एवं कार्यक्रम का संचालन श्री घनश्याम मिश्रा द्वारा किया गया।

राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव की सिरोही व जालोर जिले के कार्य की समीक्षा 
अधिकारी बदलें कार्यशैली 
(साभार : राजस्थान पत्रिका, 28 दिसंबर 2015)


Friday, December 18, 2015

45वी यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन पत्र-लेखन प्रतियोगिता का आयोजन 3 जनवरी, 2016 को

पत्र लेखन विधा को प्रोत्साहित करने के लिए हर वर्ष यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम  में इस बार भी 3 जनवरी, 2016 (रविवार ) को प्रात:  10.00 बजे से 11.00 बजे के दौरान  उक्त प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा।  इस संबंध में जानकारी देते हुए राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इस प्रतियोगिता का आयोजन सभी डाक सर्किल /परिक्षेत्रों के मुख्यालय पर किया जायेगा।  राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र में यह परीक्षा जोधपुर मुख्यालय पर आयोजित की जायेगी। डाक विभाग  द्वारा जोधपुर एवं जैसलमेर जिलों मे अध्ययनरत स्कूली  विद्यार्थियों के लिए 45वी यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन पत्र-लेखन प्रतियोगिता-2016 का आयोजन जोधपुर में किया जायेगा। पत्र-लेखन का विषय “ अपने 45 वर्ष के स्वजन को पत्र'' (Write a letter to your 45-year old self)  रखा गया है। पत्र हिंदी, अंग्रेजी या संविधान की आठवीं सूची में निर्दिष्ट किसी भी भाषा में 1000  शब्दों की सीमा में लिखना होगा।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया  कि  प्रतियोगिता हेतु आवेदन करने की अन्तिम तिथि 21 दिसम्बर 2015  है। इच्छुक विद्यार्थी, जो 31 मार्च 2016 तक 15 वर्ष की आयु पूर्ण करेंगे, अपने विद्यालय के माध्यम से (जन्मतिथि सत्यापित करवाते हुए) निर्धारित आवेदन-पत्र (दो प्रतियों में) पासपोर्ट आकार की दो नवीनतम फोटो साथ लगाकर प्रवर अधीक्षक डाकघर, जोधपुर मण्डल, जोधपुर-342 001 को भेज सकते हैं। प्रतियोगिता हेतु आवेदन करने का प्रारूप सम्बन्धित प्रवर अधीक्षक/अधीक्षक कार्यालय से प्राप्त किया जा सकता है, हालांकि सभी मण्डलीय अधीक्षकों को व्यापक प्रचार व प्रमुख स्कूलों को प्रारूप उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये हैं। 

निदेशक श्री यादव ने बताया कि पत्र लेखन प्रतियोगिता का मूल्यांकन परिमण्डलीय स्तर पर जयपुर में किया जायेगा तथा श्रेष्ठ तीन पत्र लेखन को राष्ट्रीय स्तर पर सम्मिलित करने हेतु डाक निदेशालय, नई दिल्ली भेजा जायेगा। राष्ट्रीय स्तर पर श्रेष्ठ तीन प्रतियोगियों को क्रमशः रू0 5,000, रू0 3,000 व रू0 2,000 का प्रथम, द्वितीय व तृतीय पुरस्कार प्रमाणपत्र सहित दिया जायेगा। इसके अलावा हर डाक परिमंडल की  सर्वोत्कृष्ट प्रविष्टि  को सांत्वना पुरस्कार के रूप में 1,000 रूपये व प्रमाण पत्र दिया जायेगा। राष्ट्रीय स्तर के श्रेष्ठ पत्र लेखन को यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन के पास आधिकारिक प्रविष्टि के रूप में भेजा जायेगा।  

Thursday, December 10, 2015

सुर्ख़ियों में रही जोधपुर डाक टिकट प्रदर्शनी 'जोधपेक्स-2015'

जोधपुर में आयोजित सप्तम जिला स्तरीय डाक टिकट प्रदर्शनी जोधपेक्स-2015 को समाचार-पत्रों ने प्रमुखता से स्थान दिया। इन सभी का आभार !!

डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान - कृष्ण कुमार यादव
(साभार : दैनिक भास्कर, 9 दिसंबर, 2015)

 डाक टिकट का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में महत्वपूर्ण योगदान - कृष्ण कुमार यादव
निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने जारी किया ब्लू सिटी जोधपुर पर विशेष आवरण. 

(साभार : दैनिक नवज्योति, 9 दिसंबर 2015)


डाक विभाग ने ब्लू सिटी जोधपुर पर किया विशेष आवरण जारी। 
(साभार : राजस्थान पत्रिका, 9 दिसंबर 2015)


जोधपेक्स -2015 : दिखा डाक टिकटों का इतिहास। राजकीय वृक्ष खेजड़ी पर जारी हुआ विशेष आवरण वाला लिफाफा। 
(साभार : राजस्थान पत्रिका, 8  दिसंबर, 2015)

जोधपेक्स -2015 : 15 से ज्यादा देशों के डाक टिकटों से इतिहास बता संग्रह पर दिया जोर। खेजड़ी पर विशेष आवरण जारी। 
(साभार : दैनिक भास्कर, 8  दिसंबर, 2015)

प्रदर्शनी जोधपेक्स में डाक टिकटों की रंगीन दुनिया 
(साभार : दैनिक नवज्योति, 8  दिसंबर, 2015)



Jodhpur Philatelic Exhibition renews interest in Stamp.
(Courtesy : Hindustan Times, 8 December, 2015 )









जोधापेक्स में दिखी डाक टिकटों की समृद्ध परम्परा, 15 से ज्यादा देशों के डाक टिकट हुए प्रदर्शित। राजकीय वृक्ष  खेजड़ी पर जारी हुआ विशेष आवरण। 





Wednesday, December 9, 2015

Special Cover on Blue City, Jodhpur released by Director Postal Services KK Yadav during JODHAPEX-2015

The closing ceremony of two-days Philatelic Exhibition “JODHAPEX-2015” was held on 8 December 2015 in the auditorium of Sohan Lal  Manihar Girls Senior Secondary School Siwanchi gate, Jodhpur. On this occasion, Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Rajasthan Western Region, Jodhpur also  released a Special cover on Blue City, Jodhpur.

On this occasion Director Mr. Krishna Kumar Yadav said that The stamps are an illustrated referent of world heritage, progress and current events. In this way Philately has contributed to strengthen the education system. Information brochures issued with stamps give detailed information about the subject matter concerned. Every stamp has an important and contemporary theme that connects it to the current scenario. He said that, the knowledge of stamps for youth and children will be a good hobby and inspiration to follow. The habit of collection of stamps can be used in academic upgrading along with become a good source of income on lower costs in the future.

(Special Cover on Blue City, Jodhpur released by Director Postal Services KK Yadav during JODHAPEX-2015)

A special cover on Blue city, Jodhpur was also released by Director Postal Services Mr. Krishna Kumar Yadav This special cover is having marvelous scene of blue coloured houses from the internal vellum of Jodhpur City and its special cancellation depicts logo of skylight of Jodhpur Mehrangadh Fort. Mr. Yadav said that Jodhpur has maintained its identity by the historical, cultural and tourism distinct, therefore, on this occasion, the postal department is proud of issuing this special cover.  The craze of the Blue City is in movies and amongst the tourists from all over the country and around the world and now this special casing through the postal department will increase its specific identity. He said that sending letter  in this Blue city Cover with own my stamp will be something different to sending letters to loved ones and will be a special gift for the residents of Jodhpur and tourists who come here.

Jodhpur is second largest city in the Indian state of Rajasthan and has long been a popular destination among international tourists. The old town is a wonderful example of vivid colours providing a photogenic backdrop to everyday life. It is also known as the blue city because the color gives an indigo aura to it with blue colored houses surrounding the Mehrangarh Fort.

Shri PR Kadela, SSPOs Jodhpur said that the Postal Department is in India's oldest department and this type of initiative brings closer the youth to Philately. Highlighting the importance of the stamp collection said that collection of rare stamps is worth a Jew’s eye. Mr. Vidhyarthi Kalla, Principal of Sohan Lal Manihar Girls Sr.  Secondary School, said that such exhibitions should be kept constant, so that more and more students are attracted to the hobby of stamp collecting.

At the closing ceremony of Jodhapex-2015 the winners of various competitions were awarded by Mr. Yadav. In Philatelic Exhibition first, second and third prize was awarded to YKL Mathur, Praveen Parihar & Jagat Kishore Parihar  in Senior Category and to Kartik Parihar, Garvit Mathur & Rupali Rakecha in Junior Category. In the letter writing competition for children Parul Vajpayee, Yashaswini and Shazia and in stamp design contest Kruti Vyas, Bhumika Solanki & Anil Pawar ranked first, second and third respectively.

On the second day of the exhibition of stamps the excitement remains to watch their photos on stamps. During the exhibition, more than 400 people made their stamps.

On this occasion Jury Members Shri Rajesh Paharia & Shri R.K. Bhutda,  Sr. Postmaster HR Rathaud, Deputy Supdt. of Posts Jay Singh, Asst. Supdt. Vinay Khatri, Uday Sheju, Tarun Sharma, Rajendra Bhati, Sudarshan Samariya and many Philatelists, children from various schools, their parents, teachers and a number of Postal Officials were also present.





Identification of Rajasthan the ‘Blue City Jodhpur’ found place now on Special cover






The stamps have contributed to strengthen the education system- K.K. Yadav















Special Cover and Pictorial cancellation issued on Rajasthan's State tree Khejri at Jodhpur Philatelic Exhibition


A Special Cover on Rajasthan's State tree - Khejri was released at inaugural function of the Jodhpur Philatelic Exhibition JODHAPEX-2015  on 7th December 2015, by Mrs. Sheuli Berman, Postmaster General, Western Region, Jodhpur and  Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Service, Rajasthan Western Region, Jodhpur and other dignitaries in dais.

On this occasion  pictorial cancellation on state tree of Rajasthan Khejri was also issued. Director Mr. Krishna Kumar Yadav said that Khejri, the desert tree as it is also known was the lifeline of the people in Western Rajasthan in the earlier times. It provided firewood and even acted as a cash crop. Khejri covers about two-thirds of the total geographical area of the State and is of immense significance culturally and economically.


 Khejri or Loong tree or Prosopis cineraria is a species of flowering tree in the pea family, Fabaceae. It is native to arid portions of Western Asia and the Indian Subcontinent, including Afghanistan, Iran, India, Oman, Pakistan, Saudi Arabia, the United Arab Emirates, and Yemen. Other common names include Jund, Kandi, Banni / Shami or Sami, Vanni, Jammi, Khejra, Khijdo etc. It is the state tree of Rajasthan and Telangana States. It is also the national tree of the United Arab Emirates. 

On this Special cover, Rajasthan state tree Khejri found in desert has been depicted whereas Special cancellation depicts logo of Khejri. Total 1,000 Special covers has been published at the price of Rs. 5/- each. This cover will be made available in different Philatelic bureaus of India, said Mr. Yadav. 






Jodhpur Philatelic Exhibition renews interest in stamps

 Postage Stamps may look like a small piece of paper but there value and importance is much more. In fact Postage Stamp is a tiny ambassador, which travels across countries and teaches them about his country’s civilization, culture and heritage. It is an icon of a country’s people, their belief and philosophy, history, culture, heritage, ambitions and expectations. It is filled with enchanting vitality. These expressions were made by Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Rajasthan Western Region, Jodhpur while addressing the two-day Jodhpur Philatelic Exhibition JODHAPEX-2015 on 7 Dec. 2015 in Jodhpur at auditorium of Sohan Lal Manihar Girls Sr. Secondary School.

Director Mr. Krishna Kumar Yadav Yadav said that the advanced idea in Philately today is detailed study of Postage Stamps, their meaningful review and conclusions derived from such studies should be explained with regard to the social-cultural- political context of the contemporary world. Further, he said that Writing letters with one’s own hand and sending them after affixing stamps have its own pleasure, which can never be achieved through phone, mail or social media. Letters and Postage Stamps never get old, in spite their value increases. This is the reason that handwritten letters and postage stamps are auctioned millions.

Mrs. Sheuli Berman, Postmaster General said that the need of the hour is to take Philately between the youngsters and children of the country. Explaining about My stamp scheme of department she also urged the people present in the programme to ensure their active participation in this cause.

On this occasion Special cover with pictorial cancellation on state tree of Rajasthan Khejri was also issued. Director Mr. Yadav said that The Desert Tree, as it is also known as, was the lifeline of the people in Western Rajasthan in the earlier times. It provided firewood and even acted as a cash crop. Khejri covers about two-thirds of the total geographical area of the State and and is of immense significance culturally and economically, said Mr. Yadav. This cover will be made available in different Philatelic bureaus of India in Rs. 5/-only. 



In this exhibition the Philatelists of the city showcased various types of Postage Stamps. Thousands of Stamps were displayed in 40 frames, which include a wide range of colourful collection of stamps. Beside of First stamp of India issued after independence ‘Tricolour’, Father of the Nation Mahatma Gandhi, Indian Freedom Struggle, The Postman and Postal services, Glorious Rajasthan and Jodhpur, Close of heart & Tajmahal, many stamps on Environment, Bio diversity, Space, Girls-empowerment were also displayed.  It included not only stamps issued in India but also included rare postage stamps and postage stationary issued in Foreign Countries.  Other than senior Philatelists of the city, students and children also exhibited their postage stamps collection. It is worthwhile to mention here that such type of exhibition was being organized after 3 years. Earlier Philatelic exhibition in Jodhpur was organized in 2012.



“My Stamps” scheme of the Postal Department was also make available in this programme. There was a lot of enthusiasm among youngsters to see their photograph on stamp. While Children enjoyed Stamp design contest and Letter writing competition apart from beauty of stamps.


On this occasion Sr. Supdt. Of Post Offices PR Kadela, Educationist Harigopal Rathi, President of Marvad Philatelic Association  Jagat Kishore Parihar, Principal Vidyarthi Kalla, Jury members Rajesh Pahadia and RK Bhutda, Sr. Postmaster HR Rathaud, Deputy Supdt. Of Posts Jay Singh, Asst. Supdt. Vinay Khatri, Uday Sheju, Tarun Sharma, Rajendra Bhati and many Philatelists, children from various schools, their parents, teachers and a number of Postal Officials were also present.



(Courtesy : Hindustan Times, 8 Dec. 2015)