Sunday, October 27, 2013

New Look for 'feel good'

Market your products through Postal Dept. in just Rs. 1.50/-





स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के बिना कोई भी संगठन उन्नति नहीं कर सकता - कृष्ण कुमार यादव 

प्रतिस्पर्धा से निपटने को डाक विभाग तैयार 


New Look for feel good







Sunday, October 20, 2013

Workshop for Marketing Executives in Allahabad on changing postal trends

With the purpose to create awareness among the Marketing Executives about new products, changing work-scenario and to enhance their understanding about Customer-care a one-day workshop was organised on 19th October, 2013 at Civil lines Allahabad GPO for Allahabad Region. The work shop was inaugurated by Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region. During workshop Postal Officials were up dated about the latest and upcoming changes and Premium & Financial products of Dept. of Posts through Power Point Presentation.

While addressing the programme as Chief Guest Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region said that India Post  proposes to continue its efforts to harness its traditional strengths to modern management practices and appropriate technologies to become more responsive to public needs and expectation, and to make the services more customer friendly, while identifying new opportunities new opportunities to provide value added services and greater access to postal services, in a cost effective manner.

Director Mr. KK Yadav told that  during the recent years, India Post has introduced many value added services. While Speed Post and Express Parcel Post remain most popular premium service, guarantee time bound delivery within time limit, whereas Business Post offers total business solution for all mailing activities includes collection, inserting, addressing, franking etc. For corporate customers and to regular users Speed post also offers home collection, credit facilities, on-line tracking, account management and personalized services.Media Post provides opportunities to corporate customer /government organizations  and other large private institutions to have their products /services advertised on the postal stationeries, letter boxes, mail van, post office premises  etc. Bill Mail service provides posting of financial  statements, bills etc. for Posting at least in 90 days, min. 5000 Articles, whereas Direct post service delivery of Un-addressed mails, cards, brochures, questionnaires, Pamphlets, samples, promotional items like CDs/ Cassettes etc. are done through postman, whereas  Retail Post offer  sale of products/services through Post office Counters. e-Post is facility of transmitting and receiving messages through internet even for those who are not connected with the net. By using e-Post, e mail can be sent to a Post office for delivery through the Postman.

 Addressing Marketing Executives, Director Postal Services Mr. Krishna Kumar Yadav said that their activities in field create an image of department, so they have to be more courteous and responsive for customer. In this era of competition we just cannot sit idle to earn business instead of that we have to approach customers, we have to interact with them about our services and to make them aware of our different services, by this way only we can reach to our goal.

 Sr. Superintendent of Post Offices, Allahabad Division Mr. Rahmatullah said that proper monitoring is being done on all the premium services and by this we are trying to facilitate our customers to the maximum extent.
On the occasion Mr. T B Singh, Assistant Director (Business Development), Mr. Vinay Yadav, ASP (South), Mr. Ashish Srivastva, ASP (BD), Mr. Deepak Kumar, Inspector Post (Project Arrow) gave their presentations on power point, for different products and aspects.



(Market your products through Postal Dept. in just Rs. 1.50/-)



Saturday, October 19, 2013

संचार क्रान्ति के दौर में नये उत्पाद एवं सेवायें आरम्भ कर रहा है डाक विभाग - कृष्ण कुमार यादव

इलाहाबाद डाक परिक्षेत्र के मार्केटिंग एक्जिक्युटिवज को डाक विभाग में नित हो रहे परिवर्तनों से रूबरू कराने के लिए एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन 19 अक्टूबर को सिविल लाइंस स्थित इलाहाबाद जीपीओ में किया गया। कार्यशाला का उद्घाटन इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने किया। इस अवसर पर इलाहाबाद, वाराणसी, प्रतापगढ, मिर्जापुर, जौनपुर, मिर्जापुर के मार्केटिंग एक्जिक्युटिवज के अलावा जनसंपर्क निरीक्षकों और सहायक डाक अधीक्षकों/डाक निरीक्षकों ने कार्यशाला में भाग लिया। इस अवसर पर विभिन्न डाक सेवाओं के बारे में पावर प्वाइंट द्वारा प्रस्तुति देकर उन्हें अद्यतन व प्रोत्साहित किया गया।

     कार्यशाला का उद्घाटन करते हुए इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने जहाँ विभिन्न मंडलों में व्यवसाय की समीक्षा की, वहीं अपने संबोधन में कहा कि व्यवसायिकता के इस दौर में बिना स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा के कोई भी संगठन उन्नति नहीं कर सकता और डाक विभाग भी इस क्षेत्र में तमाम नये कदम उठा रहा है। डाक विभाग जहाँ नित् नई सेवायें लागू कर रहा है, वहीं विभाग ने अपनी परम्परागत छवि को प्रतिस्पर्धा के तहत कारपोरेट इमेज में भी तब्दील करने का प्रयास किया है। संचार क्रान्ति के दौर में अपनी सेवाओं को त्वरित बनाने और उनकी गुणवत्ता में वृद्वि हेतु डाक विभाग ने जहाँ सभी डाकघरों को  कम्प्यूटरीकृत  किया है, वहीं ग्राहकों की वर्तमान एवं भावी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिये प्रौद्योगिकी आधारित नये उत्पाद एवं सेवायें भी आरम्भ की हैं। 

   डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने सेवाओं के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि, जहाँ स्पीड पोस्ट व एक्सप्रेस पार्सल पोस्ट सेवा निश्चित समय के भीतर सुनिश्चित वितरण की गारण्टी देते हैं वहीं बिजनेस पोस्ट के अन्र्तगत सारी प्रीमेलिंग गतिविधियों को आसान तारीके से निपटाया जाता है। मीडिया पोस्ट के अन्र्तगत डाक स्टेशनरी, लेटर बाक्स, मेल गाड़ी व डाकघरों में विज्ञापन लगाने की सुविधा प्राप्त है तो  रिटेल पोस्ट की मार्फत डाकघर अपने काउन्टरों पर फार्म बेचने और बिल जमा करने की सुविधा प्रदान करते हैं।  बिल मेल सेवा हर तिमाही न्यूनतम 5000 प्रपत्र व बिल एक ही जिले में प्रेषित करने वालों हेतु सामान्य दरों से कम पर सुविधा उपलब्ध कराता है वहीँ डायरेक्ट पोस्ट के तहत बिना पता लिखी डाक के लक्षित जनता के दरवाजे पर डाकियों द्वारा वितरण सुनिश्चित किया जाता है।  श्री  यादव ने कहा कि  बुक नाउ-पे लेटर, बल्क मेल पर छूट, फ्री पिकअप जैसी स्कीमों के तहत डाक सेवाओं को और आकर्षक बनाया गया है। इसके अलावा ई-पोस्ट, ई-पेमेण्ट, लाजिस्टिक पोस्ट, डाक जीवन बीमा, तत्काल धनादेश सेवा, अन्तराष्ट्रीय धन अंतरण सेवा, बचत बैंक सेवायें, फिलेटली  इत्यादि के संबंध में भी  जानकरी दी । 

   निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने डाक अधिकारियों  से रूबरू होते हुए कहा कि फील्ड में उनकी कार्य गतिविधियाँ ही विभाग के प्रति अवधारणा (इमेज) बनाती हैं, ऐसे में उन्हें ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने की जरुरत है। आज के प्रतियोगी दौर में यह सोचना कि  मात्र काउंटर पर सेवाएँ देकर जनता को आकर्षित किया जा सकता है, उचित नहीं है। ज्यादा राजस्व के लिए हमें खुद लोगों के पास जाना होगा, नियमित संवाद स्थापित करते हुए उन्हें सेवाओं और गुणवत्ता के बारे में जागरूक करना होगा, तभी लक्ष्यों की प्राप्ति हो सकेगी।

  इलाहाबाद मंडल के प्रवर अधीक्षक डाकघर श्री रहतमउल्लाह ने कहा कि डाक सेवाओं की नियमित मानीटरिंग की जा रही है और इनके उन्नयन से जनता को काफी सहूलियत होगी एवं उन्हें डाक विभाग की आधुनिक सेवाओं का लाभ मिल सकेगा।

   इस अवसर पर सहायक निदेशक (व्यवसाय विकास) श्री टी बी सिंह, इलाहाबाद जीपीओ के सीनियर पोस्टमास्टर मधुसुदन प्रसाद मिश्र,  विनय यादव, सहायक डाक अधीक्षक,  आशीष श्रीवास्तव, सहायक डाक अधीक्षक, (व्यवसाय विकास), डाक निरीक्षक (प्रोजेक्ट ऐरो) दीपक कुमार ने विभिन्न पहलुओं पर  पावर प्वाइंट द्वारा प्रस्तुति दिया। 




Wednesday, October 16, 2013

Postal Life Insurance Day Celebrated

During National Postal Week 15 October, 2013 was celebrated as Postal Life Insurance day. On this occasion Postal Life Insurance Melas were organized in Government/Semi Government offices of Allahabad Region.

On this occasion Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region said the Postal Department is serving the public with its savings bank and postal life insurance schemes along with the delivery of the letters. Postal life insurance was started with effect from 01 February 1884 for Central Government/State Government officials, Defence personnel, officials of  Govt. Institutions, Municipal Corporation and boards, Government Universities, employees of Nationalized Banks, additional bodies of State Banks of India and Reserve Bank, operational units under Central/State government, UTI, IDBI and employees of state insurance corporation.

Director Mr. Yadav added that there are 6 schemes of Postal Life Insurance such as Suraksha, Santosh, Suvidha, Yugal Suraksha, Sumangal and Children policy. Rural Postal Life Insurance Scheme for the benefits of villagers also have Gram Santosh, Gram Suraksha, Gram Suvidha, Gram Sumangal, Gram Priya and Children policy.  He said that the minimum and maximum age limit of the postal life insurance scheme is fixed for 19 years and 55 years respectively whereas maximum age limit for 15 years and 20 years Sumangal scheme are prescribed for 45 and 40 years respectively.

Discussing the benefits of the postal life insurance Director Postal Services Mr. Krishna Kumar Yadav told that Government is bound for 100% security of investor's investment, relaxation in income tax under section 88, low premium and high bonus, loan benefit on the policies, deposit of premium at any post office in the country and rebate of 1% & 2% on advance premium of 6 months and 12 months respectively.

Director Mr. Krishna Kumar Yadav told that Allahabad Region has done business in insurance of more than one billion in this financial year, which includes 53 crore in Postal Life insurance and 48 crores in Rural Postal Life Insurance.  Mr. Yadav further added that to insured more people, 15 villages are being selected in each division to cover under Rural Postal Life Insurance, where as for urban area important Government department to be covered under Postal Life insurance Sangathan.

(Pl also read this news at Times of India, 16 Oct. 2013)
http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2013-10-16/allahabad/43106083_1_yugal-suraksha-rural-postal-life-insurance-gram-santosh

Tuesday, October 15, 2013

’राष्ट्रीय डाक सप्ताह’ के तहत डाक जीवन बीमा दिवस का आयोजन

भारतीय डाक विभाग द्वारा राष्ट्रीय डाक सप्ताह के तहत 15 अक्टूबर 2013 को ”डाक जीवन बीमा दिवस” के रूप में मनाया गया। इस दौरान इलाहाबाद परिक्षेत्र के अंतर्गत विभिन्न महत्वपूर्ण सरकारी/अर्द्धसरकारी कार्यालयों में डाक जीवन बीमा मेले का आयोजन किया गया, जिसमें लोगों  को इसके बारे में जागरूक किया गया और लोगों का बीमा भी किया गया। 

  इस अवसर पर श्री कृष्ण कुमार यादव, निदेशक डाक सेवायें, इलाहाबाद परिक्षेत्र ने बताया कि डाक विभाग पत्रों के वितरण के साथ-साथ जीवन बीमा के क्षेत्र में भी एक लम्बे समय से कार्यरत रहा है। 1 फरवरी 1884 को आरंभ डाक जीवन बीमा के तहत वर्तमान में केन्द्र व राज्य सरकारों के कर्मचारी, रक्षा कर्मी, सरकारी निकाय द्वारा स्थापित संस्थाओं, सरकार द्वारा स्थापित विश्वविद्यालयों के कर्मचारी, राष्ट्रीयकृत बैंक, एसबीआई की सहायक इकाइयों व रिजर्व बैंक कर्मचारी, केंन्द्र व राज्य सरकारी के अधीन संचालित इकाइयों, निगमों व बोर्डों के कर्मी, यूटीआई, आई डीबीआई जैसे सरकारी नियंत्रण वाले वित्तीय संस्थानों के कर्मी, राज्य बीमा निगम के कर्मचारी पात्र हैं। श्री यादव ने बताया कि ”डाक जीवन बीमा” में 6 योजनायें-सुरक्षा, संतोष, सुविधा, युगल सुरक्षा, सुमंगल व चिल्ड्रेन  पालिसी हैं एवं ग्रामीण अंचल में निवास करने वाले निवासियों के लिए ”ग्रामीण डाक जीवन बीमा” के अंतर्गत-ग्राम संतोष, ग्राम सुरक्षा, ग्राम सुविधा, ग्राम सुमंगल, ग्राम प्रिया, एवं चिल्ड्रेन  पालिसी है। उन्होंने आगे बताया कि  बीमा प्रस्तावक की आयु सीमा 19 वर्ष से 55 वर्ष की नियत है, जो कि 15 वर्षीय एवं 20 वर्षीय सुमंगल योजना के लिए अधिकतम सीमा क्रमशः 45 वर्ष एवं 40 वर्ष है। 


डाक जीवन बीमा के अन्तर्गत लाभों की चर्चा करते हुए डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि निवेश की सुरक्षा पर सरकार की गांरटी, धारा 88 के तहत आयकर में छूट, कम प्रीमियम और अधिक बोनस, पालिसी पर लोन की सुविधा, देश के किसी भी डाकघर में प्रीमियम जमा करने की सुविधा और 6 महीने के अग्रिम प्रीमियम पर 1 फीसदी की छूट, 12 माह अग्रिम जमा पर 2 फीसदी की छूट दी जाती है। विशेष रूप से उल्लेखनीय है कि जमा प्रीमियम पर किसी तरह का किसी प्रकार के एजेन्ट कमीशन का भार प्रस्तावक पर नहीं पड़ता है। 

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इस वित्तीय वर्ष में इलाहाबाद परिक्षेत्र में 1 अरब से ज्यादा का बीमा व्यवसाय हो चुका है, इसमें डाक जीवन बीमा के तहत 53 करोड एवं ग्रामीण डाक जीवन बीमा के तहत 48 करोड से ज्यादा का व्यवसाय हुआ है। श्री यादव ने कहा कि अधिकाधिक लोगो को बीमित करने हेतु हर डाक मण्डल में 15 गाँवों  को चयनित करके उन्हें ग्रामीण डाक जीवन बीमा ग्राम के रूप में कवर किया जा रहा है वही शहरों में प्रमुख सरकारी विभागों को डाक जीवन बीमा संगठन के तहत लाने की योजना है।

Sunday, October 13, 2013

Postage Stamps help in enriching and strengthening education system – KK Yadav

“Philately day’’ was celebrated by Postal Dept. as a part of National Postal Week on 12 th Oct 2013. On this occasion various programmes were held at Allahabad and Varanasi , including Philatelic workshop, letter writing competition, Panting competition, and quiz competition for students to promote philately.

On this occasion Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, said that philately is not the only collection of stamps but it is also includes study of stamps.  He said that every stamp has a story of their own and there is a need to link young generation with this story. He called Postage Stamps are “Carrier of emotions”, which carries emotions from one person to another.

Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region told that generally Postage Stamps may look like a small piece of paper but there value and importance is much more. In fact Postage Stamp is a tiny ambassador, which travels across countries and teaches them about his country’s civilization, culture and heritage. It is anicon of a country’s people, their belief and philosophy, history, culture, heritage, ambitions and expectations. It is filled with enchanting vitality.

On this occasion Mr.Yadav also told about interesting story about a European woman of 19th century who had an idea to decorate her dressing room with Postage Stamps, she collected sixteen thousand stamps from her acquaintances and for remaining she released an advertisement in “Times of London” and requested the readers to send used postage stamps to complete her collection. Thereafter collecting of stamps gained popularity as a hobby in the whole world in due course of time.

Mr. Yadav urged to School and Students to open Philatelic Deposit Account in Post Offices to get Stamps at their door step evey month. He said that knowledge may also be acquired through Postage Stamps. Postage Stamps may also help in enriching and strengthening our education system.






Saturday, October 12, 2013

श्रृंगार-कक्ष की दीवारों से आरंभ हुआ डाक-टिकटों के संग्रह का शौक

भारतीय डाक विभाग द्वारा राष्ट्रीय डाक सप्ताह के तहत 12 अक्टूबर 2013 को फिलेटली दिवस के रूप में मनाया गया। इसका उद्देश्य इसका उद्देश्य डाक -टिकट संग्रह  के प्रति लोगों में अभिरूचि विकसित करना और डाक टिकटों के माध्यम से युवा पीढी को डाक सेवाओं के इतिहास से जोडना था।

फिलेटली दिवस पर इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं  कृष्ण कुमार यादव ने डाक-टिकटों के संग्रह की दिलचस्प कहानी के बारे में बताया कि उन्नीसवीं शताब्दी के मध्य में यूरोप में एक अंग्रेज महिला को अपने श्रृंगार-कक्ष की दीवारों को डाक टिकटों से सजाने की सूझी और इस हेतु उसने सोलह हजार डाक-टिकट परिचितों से एकत्र किए और शेष हेतु सन् 1841 में ‘टाइम्स आफ लंदन’ समाचार पत्र में विज्ञापन देकर पाठकों से इस्तेमाल किए जा चुके डाक टिकटों को भेजने की प्रार्थना की। इसके बाद धीमे-धीमे पूरे विश्व में डाक-टिकटों का संग्रह एक शौक के रूप में परवान चढ़ता गया। 

निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि हर डाक टिकट की अपनी एक कहानी है और इस कहानी को वर्तमान पीढ़ी के साथ जोड़ने की जरुरत है। उन्होंने डाक टिकटों को संवेदना का संवाहक बताया, जो पत्र के माध्यम से भावनाओं को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचाते हैं। उन्होंने कहा कि सामान्यतः डाक टिकट एक छोटा सा कागज का टुकड़ा दिखता है, पर इसका महत्व और कीमत दोनों ही इससे काफी ज्यादा है । डाक टिकट वास्तव में एक नन्हा राजदूत है, जो विभिन्न देशों का भ्रमण करता है एवम् उन्हें अपनी सभ्यता, संस्कृति और विरासत से अवगत कराता है। 

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने ने डाक टिकटों से युवाओं को जोडते हुए कहा कि डाक टिकटों के द्वारा ज्ञान भी अर्जित किया जा सकता है। यह हमारी शिक्षा प्रणाली को और भी मजबूत बना सकते हैं। लोगों को घर बैठे डाक-टिकटों के संग्रह से जोडने हेतु डाक विभाग ने फिलेटलिक डिपाजिट एकाउण्ट योजना भी आरम्भ की है, जिसके तहत यूनतम 200 रूपये से फिलेटलिक डिपाजिट एकाउण्ट‘‘ खोला जा सकता है और हर माह घर बैठे डाक टिकटें प्राप्त होती रहेंगी।  

इस अवसर पर बच्चों हेतु फिलेटलिक  वर्कशाप, पत्र लेखन प्रतियोगिता, पेंटिंग प्रतियोगिता और क्विज प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। बच्चों ने जहाँ फिलेटलिक ब्यूरो में तमाम नए-पुराने डाक टिकटों को देखकर आनंद लिया वही तमाम ने खोलकर इससे हमेशा के लिए भी अपने को जोड  लिया।






साभार : 

Friday, October 11, 2013

'राष्ट्रीय डाक सप्ताह' के तहत डाकघरों में मना 'बचत दिवस'

भारतीय डाक विभाग द्वारा राष्ट्रीय डाक सप्ताह के तहत 10 अक्टूबर 2013 को बचत बैंक दिवस के रूप में मनाया गया। इसका उद्देश्य डाक विभाग की बचत योजनाओं के संबंध में लोगों को जागरूक करना एवं अधिकाधिक खाते खोल कर अधिकतम लोगों तक अपनी भागीदारी सुनिश्चित करना रहा। इस संबंध में इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि नेटवर्क की दृष्टि से डाकघर बचत बैंक देश का सबसे बड़ा रीटेल बैंक है। डाकघरों में निवेश की तमाम योजनायें हैं, जिनमें बचत खाता, आवर्ती जमा, सावधि जमा, मासिक आय योजना, पी.पी.एफ., सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम एवं राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश किया जा सकता है। श्री यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी डाक बचत योजनाओं के तहत लाना है। इसके तहत तमाम गांवों को बचत बैंक ग्राम के तहत भी आच्छादित किया जा रहा है। ग्रामीण स्तर पर डाकघरों में मनरेगा एवं बी0 पी0 एल0 से सम्बन्धित खाते भी खोले जा रहे हैं । 

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि आने वाले दिनों में डाकघरों को भी कोर बैंकिंग  सोल्यूशन (सी.बी.एस.) से जोड़ा जा रहा है, जिससे ग्रामीण स्तर पर भी बैंकिंग क्षेत्रों में क्रान्तिकारी कदम का सूत्रपात होगा और डाकघरों के खाताधारक नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग एवं ए0टी0एम0 सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे।

निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि वर्तमान में इलाहाबाद डाक परिक्षेत्र में साढ़े 36 लाख से अधिक खाते डाकघरों में चल रहे हैं । इनमें सितम्बर माह में अकेले 1 लाख 17 हजार नये खाते खोले गये। गौरतलब है कि डाकघर में बचत योजना में 4 प्रतिशत, आवर्ती जमा खाता में 8.30 प्रतिशत, मासिक आय योजना में 8.5 प्रतिशत, पी.पी.एफ. में 8.70 प्रतिशत और सावधि जमा योजना में 1 व 2 वर्षीय पर 8.2 प्रतिशत, 3 वर्षीय पर 8.3 प्रतिशत, 5 वर्षीय पर 8.40 ब्याज मिलता है। इसी प्रकार सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में 9.20 प्रतिशत ब्याज है। 5 वर्षीय राष्ट्रीय बचत पत्र पर 8.50 प्रतिशत व 10 वर्षीय राष्ट्रीय बचत पत्र पर 8.80 प्रतिशत ब्याज देय है।

साभार : 

Thursday, October 10, 2013

Prayag, a pioneer in Postal services


ALLAHABAD: World Post Day is celebrated across the world on October 9. Today, in the times of e-mails, SMS and apps, letters continue to hold a place of are still there in the minds of people. A lot of us may not be aware, but Allahabad is credited with many firsts in the world of postal services. The first air mail, railway mail and other postal services all started from Allahabad. 

Sharing the details with TOI, director Postal Services, Allahabad region Krishna Kumar Yadav said being strategically important, British emphasised development of postal services in Allahabad. World's first air mail was started in Allahabad on 18 February, 1911 in Allahabad. The plane carrying about 6,500 letters took-off from the Polo Ground of Allahabad and after a flight of 13 minutes landed on a ground near Naini Railway Station. These postal articles were then dispatched further using other modes of transport. Yadav said as per records, Colonel Windham contacted postal officer sent some articles through Air Mail for the first time, and the then chief of posts gladly accorded his permission for it. 

On the mail bag carrying first Air Mail, 'First Aerial Mail' and 'Uttar Pradesh Exhibition, Allahabad' was written. There was a restriction on weight of letters and only 6,500 carefully sorted letters were allowed for transport. The flight which lasted for only 13 minutes created a history. Letters carried through the first Air Mail were addressed to people across the world, out of which one letter was sent to Jawaharlal Nehruby his father Motilal Nehru. Many British officers wrote letters to King George V. A special postage stamp was also created for that day. 

Yadav claimed that Railway Mail Service (RMS) is also said to be started in Allahabad. After the beginning of Railways in 1853, a Railway Sorting Section was started between Allahabad Kanpur route, for the first time in India on May 1, 1864, which eventually emerged as Railway Mail Service. 

Yadav, who has also authored a research-based book on India Post named "India Post: 150 Glorious Years" said right after the release of World's first postage stamp in Britain on May 6, 1840, next year in 1841 a horse-cart mail service was started between Allahabad and Kanpur. A rich merchant of Allahabad Lala Thanthimal, whose business was spread up to Kanpur, is credited with launch of this horse-cart mail service, Britishers also used to trust him. After construction of Grand Trunk Road, mail was carried by this road through palanquin and horse cart, in which a horse used to travel 7 kilometers. Freight was to be paid immediately at the rate of one paisa per half tola. From Allahabad to Bithoor, 'daak' was transported through Ganga river. 'Daak Harakkaras' used to travel through forests, so as a measure of their security, they used to carry a bell with a spear for protection. In 1850, Lala Thanthimal founded Inland Transit Company in association with some British nationals, and after Allahabad, he started horse-cart service between Kanpur and Kolkata. In coming years, the service was extended to cities like Meerut, Delhi, Agra, Lucknow, Banaras etc. Being situated at the center of all these cities, role of Allahabad was very important. As such, Lala Thanthimal is credited with starting the first company of postal system in India. In 1854, with integration of postal services as a department, Inland Transit Company too merged with it.

1. Prayag, a pioneer in Postal Services : House-cart Mail, Railway Mail or Air Mail, It all started in Sangam City (Courtesy :The Times of India, 10 Oct. 2013 coverage about 'World Post day' in Allahabad via Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region.

2. Pl. also check the article of Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region regarding this on this blog @ http://dakbabu.blogspot.in/2013/10/prayag-has-always-been-pioneer-in.html

डाक सेवाओं के क्षेत्र में इलाहाबाद का महत्वपूर्ण स्थान - कृष्ण कुमार यादव


भारतीय डाक विभाग द्वारा विश्व डाक दिवस (9 अक्तूबर 2013 ) पर सिविल लाइन्स स्थित इलाहाबाद प्रधान डाकघर में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में श्री एम. ई. हक, पोस्टमास्टर जनरल और कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री कृष्ण कुमार यादव, निदेशक डाक सेवायें, इलाहाबाद परिक्षेत्र ने किया। कार्यक्रम में जहाँ तमाम डाक सेवाओं के बारे में विस्तार से बताया गया वहीं वरिष्ठ पेंशनर्स एवं उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों को सम्मानित किया गया।  

इस अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल श्री एम. ई. हक ने अपने संबोधन में यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन की कार्य प्रणाली पर प्रकाश डाला एवं डाककर्मियों से अपने कार्य के प्रति ज्यादा प्रतिबद्ध होने की बात कहीं। उन्होंने कहा कि डाक विभाग एक बहुत बड़ा संगठन है और लोगों के साथ संवाद स्थापित करके एवं उन्हें सेवाओं के बारे में जानकारी देकर अधिकाधिक राजस्व अर्जन किया जा सकता है।

अध्यक्षता कर रहे निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक सेवाओं का इतिहास  सभ्यता, संस्कृति और अर्थव्यवस्था से अभिन्न रूप से जुड़ा हुआ है। सुख-दुख हर पल में लोगों की थाह लेने वाला डाक विभाग पूरब से पश्चिम तक और उत्तर से दक्षिण तक समूचे भारत की संचार व्यवस्था को एक डोरी में बाँधता है। भारतीय डाक ने सदियों की करवटें देखी हैं और न जाने इसके आगोश में इतिहास के कितने पहलू छुपे हुये हैं। श्री यादव ने कहा कि डाक सेवाओं के क्षेत्र में इलाहाबाद का महत्वपूर्ण स्थान है। यहीं से तमाम डाक सेवाओं की शुरूआत हुयी और आज भी धरोहर के रूप में तमाम बातों को यह सहेजे हुये है। 


इस अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डाककर्मियों को सम्मानित किया गया। इनमें डाक जीवन बीमा में सर्वश्री विनय कुमार यादव, सहायक डाक अधीक्षक (दक्षिणी), ए. के. सिंह उपमंडलीय निरीक्षक (उत्तरी) एवं सी एल मिश्रा उपडाकपाल दारागंज, ग्रामीण डाक जीवन बीमा हेतु राम चंद्र शुक्ला पोस्टमैन मेजा, व्यवसाय विकास हेतु रजनीश श्रीवास्तव माकेर्टिंग एक्जीक्यूटिव, पोस्टमैन संवर्ग में विद्याभूषण पांडेय इलाहाबाद सिटी को उत्कृष्ट कार्यों हेतु सम्मानित किया गया। इसके अलावा डाक विभाग ने वरिष्ठतम पेंशनरों सर्वश्री राधेश्याम श्रीवास्तव, राम सुख शुक्ला, अमृत लाल, विद्याधर मालवीय को भी सम्मानित किया।

इस अवसर पर उपस्थित जनों का स्वागत श्री रहमतउल्लाह, प्रवर अधीक्षक डाकघर, इलाहाबाद, आभार ज्ञापन श्री मधुसूदन प्रसाद मिश्रा, सीनियर पोस्टमास्टर एवं कार्यक्रम का संचालन श्री ए.के. सिंह, डाक निरीक्षक द्वारा किया गया।

साभार : 

Allahabad holds important place in Postal Services- Krishna Kumar Yadav

A programme was organized by Postal Department on the occasion of World Post Day in Allahabad Head Post Office located at Civil Lines. The programme was held under the chairmanship of Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region, whereas the chief guest of the programme was Mr. M. E. Haque, Postmaster General, Allahabad Region. Detailed information about a number of postal services was provided in this programme, along with felicitation of pensioners and postal officers and employees, for their excellent performance.

On this occasion, Postmaster General Allahabad Mr. M. E. Haque, explained about the working of Universal Postal Union, in his address. He also urged the postal officials to be more dedicated about their work. He said that Department of Posts is a huge organization and more revenue may be earned by establishing dialogue with people and educating them about the products and services of Postal Department. 

Presiding over as Chairman of the programme Director Postal Services, Mr. Krishna Kumar Yadav said that the history of Postal Services is linked with culture, heritage and economy of the Indian people. Postal Department links the whole country from east to west and north to south in a chain of communication, and comes to the aid of people in their happiness and sorrows. Postal Department has out lasted centuries and a number of unknown aspects of history are hidden in its glorious past. Mr. Yadav said that Allahabad holds an important place in Postal Services. A number of Postal Services were started in Allahabad and it has still preserved these heritage. 

On this occasion, postal employees were felicitated for their outstanding performance in various fields. Which include, Mr. Vinay Yadav, Assistant Superintendent of Post Offices (South); A. K. Singh, Sub- Divisional Inspector (North) and C. L. Mishra, Sub Postmaster, Daraganj for Postal Life Insurance; Ram Chandra Shukla, Postman, Meja for Rural Postal Life Insurance; Rajnish Srivastava, Marketing Executive for Business Development; Vidhya Bhusan Pandey, Postman, Allahabad City for excellent performance. Other than above, Postal Department also felicitated senior pensioners Mr. Radheyshyam Srivastava, Ram Sukh Shukla, Amrit Lal and Vidydhar Malviya. 

Mr. Rahmatullah, Senior Superintendent of Post Offices, Allahabad, welcomed the guests and Mr. Madhusudan Prasad Mishra, Senior Postmaster gave vote of thanks. Proceeding of the programme were conducted by Mr. A. K. Singh, Inspector of Post Offices. 

(Pl. also read this news @ http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2013-10-10/allahabad/42899992_1_allahabad-head-post-office-postal-department-postmaster)






Wednesday, October 9, 2013

'विश्व डाक दिवस' : अख़बारों की निगाह से

प्रयाग  से शुरू हुई थी पहली वायु एवं रेल डाक सेवा - कृष्ण कुमार यादव
('विश्व डाक दिवस' पर   पायनियर (9 अक्तूबर, 2013) में प्रकाशित एक विस्तृत रिपोर्ट।)


'विश्व डाक दिवस' पर 'यूनाइटेड भारत' (9 अक्तूबर, 2013) में प्रकाशित एक विस्तृत रिपोर्ट।


'विश्व डाक दिवस' पर 'आई नेक्स्ट' (9 अक्तूबर, 2013) में प्रकाशित एक विस्तृत रिपोर्ट।

'विश्व डाक दिवस' पर 'डेली न्यूज एक्टिविस्ट' (9 अक्तूबर, 2013) में प्रकाशित एक विस्तृत रिपोर्ट।


 'विश्व डाक दिवस' पर 'जनसंदेश टाइम्स' (9 अक्तूबर, 2013) में प्रकाशित एक विस्तृत रिपोर्ट।


'विश्व डाक दिवस' पर 'पंजाब केसरी' (10 अक्तूबर, 2013) में प्रकाशित एक विस्तृत रिपोर्ट।



कहाँ गई वो चिट्ठियाँ

नए रूप में ढल रही है भारतीय डाक व्यवस्था : 'विश्व डाक दिवस' पर 'डेली न्यूज एक्टिविस्ट'  (9 अक्तूबर, 2013) में प्रकाशित कृष्ण कुमार यादव का आलेख।


कहाँ गई वो चिट्ठियाँ : 'विश्व डाक दिवस' पर 'जनसंदेश टाइम्स' (9 अक्तूबर, 2013) में प्रकाशित कृष्ण कुमार यादव का आलेख। 


इलाहाबाद से हुई डाक सेवाओं की शुरुआत : 'अमृत प्रभात' (9 अक्तूबर, 2013) 

Tuesday, October 8, 2013

Prayag has always been a pioneer in the Postal Services

World Post Day is celebrated across the world on 09th October. Today in the times of e-Mail and SMS, letters are still there in the minds of people. A lot of us may not be aware, but Allahabad is credited with many firsts in the world of Postal Services. First Air Mail, Railway Mail and other Postal Services started from Allahabad.

Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region told that being strategically important, Britishers emphasized on development of Postal Services in Allahabad. World’s first Air Mail was started in Allahabad on 18 February, 1911 in Allahabad. The plane carrying about 6500 letters took-off from the Polo Ground of Allahabad and after a flight of 13 minutes it landed on a ground near Naini Railway Station. After that these postal articles were dispatched further using other modes of transport. Postal Director Mr. Yadav told that as per records, Colonel Windham contacted Postal officer for the sending some articles through Air Mail for the first time, and the then chief of Posts gladly accorded his permission for it. On the mail bag carrying first Air Mail, ‘First Aerial Mail’ and ‘Uttar Pradesh Exhibition, Allahabad’ was written. There was a restriction on weight of letters and only 6500 carefully sorted letters were allowed for transport. This flight which lasted for only 13 minutes created a history. Letters which were carried through First Air Mail were addressed to people across the world, out of which one letter was sent to Jawahrlal Nehru by his father Motilal Nehru. Many British officers wrote letters to King George V. A special postage stamp was also created for that day.

Railway Mail Service is also said to be started in Allahabad. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad told that after beginning of Railways, a Railway Sorting Section was started between Allahabad Kanpur route, for the first time in India on 1 May, 1864, which eventually emerged as Railway Mail Service.

Mr. Krishna Kumar Yadav, who has also authored a research based book on India Post named “India Post: 150 Glorious Years” told that just after the release of World’s first Postage Stamp in Britain on 6 May, 1840, next year in 1841 a horse-cart mail service was started between Allahabad and Kanpur. A rich merchant of Allahabad Lala Thanthimal, whose business was spread up to Kanpur, is credited with launch of this horse-cart mail service, Britishers also used to trust him. After construction of G. T. Road, mail was carried by this road through ‘Paalki’ and horse cart, in which a horse used to travel 7 kilo meters. Freight was to be paid immediately at the rate of one paisa per half tola. From Allahabad to Bithur ‘Daak’ was transported through Ganga river. ‘Daak Harakkara’s used to travel through forests, so as a measure of their security, they used to carry a bell on their belt and a spear for protection. In the year 1850 Lala Thantimal founded ‘Inland Transit Company’ in association with some Britishers, and after Allahabad, he started horse-cart service between Kanpur and Kolkata. In coming years this service was extended to prominent cities like Meerut, Delhi, Agra, Lucknow, Banares etc. Being situated at the center of all these cities, role of Allahabad was very important. As such, Lala Thanthimal is credited with starting the first company of Postal System in India. In 1854 with integration of Postal Services as a department, Inland Transit Company was also merged with this department. 

इलाहाबाद से आरंभ हुई थी हवाई डाक सेवा, रेलवे डाक सेवा और घोड़ागाड़ी से डाक सेवा

9 अक्टूबर को ’’विश्व डाक दिवस’’ के रूप में मनाया जाता है। आज भले ही ई-मेल और एसएमएस का जमाना हो पर चिट्ठियां लोगों के जेहन से अभी भी नहीं उतरी हैं। हममें से कईयों को यह जानकर आश्चर्य होगा कि प्रयाग को डाक सेवाओं की शुरूआत के लिए भी जाना जाता है। प्रयाग से ही प्रथम वायु, रेल व अन्य डाक सेवायें आरंभ हुयीं।

 सामरिक रूप से महत्वपूर्ण होने के कारण ब्रिटिश शासन काल से ही अंग्रेजों ने इलाहाबाद में डाक सेवाओं की प्रमुखता पर जोर दिया। हवाई डाक सेवा दुनिया में सर्वप्रथम 18 फरवरी, 1911 को इलाहाबाद में आरंभ हुई। करीब साढे़ छः हजार पत्रों का थैला लेकर यह विमान इलाहाबाद के पोलो ग्राउन्ड से करीब 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित नैनी रेलवे स्टेशन के पास के मैदान में उतरा था। फिर वहाँ से उन डाक को अन्य परिवहन साधनों से आगे भेजा गया। आंकड़ों के अनुसार कर्नल वाई विंधाम ने पहली बार हवाई मार्ग से कुछ मेल बैग भेजने के लिए डाक अधिकारियों से संपर्क किया जिस पर उस समय के डाक प्रमुख ने अपनी सहर्ष स्वीकृति दे दी। मेल बैग पर ‘पहली हवाई डाक’ और ‘उत्तर प्रदेश प्रदर्शनी, इलाहाबाद’ लिखा था। प्रत्येक पत्र के वजन को लेकर भी प्रतिबंध लगाया गया था और सावधानीपूर्वक की गई गणना के बाद सिर्फ 6,500 पत्रों को ले जाने की अनुमति दी गई थी। करीब 13 मिनट की इस हवाई यात्रा ने इतिहास रच दिया। इसके लिए दुनिया भर के विभिन्न हिस्सों  के लिए लोगों  ने पत्र लिखे थे, जिनमें से एक पत्र जवाहर लाल नेहरू के नाम उनके पिता मोती लाल नेहरू का भी था। कई ब्रिटिश अधिकारियों ने जार्ज पंचम को भी पत्र लिखे थे। उस एक दिन के लिए अलग से डाक मोहर भी बनवाई गई थी ।

रेलवे डाक सेवा का उदभव भी इलाहाबाद में ही हुआ माना जाता है। निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि रेल सेवा के आरम्भ होने के बाद इलाहाबाद और कानपुर के बीच अखिल भारतीय स्तर पर प्रथम बार रेलवे सार्टिंग सेक्शन की स्थापना 1 मई 1864 को की गई, जो कि कालान्तर में रेलवे डाक सेवा में तब्दील हो गया। 

 6 मई 1840 को ब्रिटेन में विश्व के प्रथम डाक टिकट जारी होने के अगले वर्ष 1841 में इलाहाबाद और कानपुर के मध्य घोड़ा गाड़ी द्वारा डाक सेवा आरम्भ की गई। इलाहाबाद के एक धनी व्यापारी लाला ठंठीमल, जिनका व्यवसाय कानपुर तक विस्तृत था को इस घोड़ा गाड़ी डाक सेवा को आरम्भ करने का श्रेय दिया जाता है, जिन पर अंग्रेजों ने भी अपना भरोसा दिखाया।
जी0टी0 रोड बनने के बाद उसके रास्ते भी पालकी और घोड़ा गाड़ी से डाक आती थी, जिसमें एक घोड़ा 7 किलोमीटर का सफर तय करता था। आधा तोला वजन का एक पैसा किराया तुरन्त भुगतान करना होता था। इलाहाबाद से बिठूर तक डाक का आवागमन गंगा नदी के रास्ते से होता था। डाक हरकारे जंगल से होकर गुजरते थे इसलिए सुरक्षा के लिहाज से कमर में घंटी और हाथ में भाला लिए रहते थे। सन् 1850 में लाला ठंठीमल ने कुछ अंग्रेजों के साथ मिलकर ‘इनलैण्ड ट्रांजिट कम्पनी’ की स्थापना की और इलाहाबाद के बाद कलकत्ता से कानपुर के मध्य घोड़ा गाड़ी डाक व्यवस्थित रूप से आरम्भ किया। अगले वर्षों में इसका विस्तार मेरठ, दिल्ली, आगरा, लखनऊ, बनारस इत्यादि प्रमुख शहरों में भी किया गया। इलाहाबाद  की अवस्थिति इन शहरों के मध्य में होने के कारण डाक सेवाओं के विस्तार के लिहाज से इसका महत्वपूर्ण स्थान था। इस प्रकार लाला ठंठीमल को भारत में डाक व्यवस्था में प्रथम कम्पनी स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है। 1854 में डाक सेवाओं के एकीकृत विभाग में तब्दील होने पर इनलैण्ड ट्रांजिट कम्पनी’ का विलय भी इसमें कर दिया गया। 

Picture 1: Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad standing before Hexagonal Penfold Letter Box (1872) at Allahabad Head Post Office.
Picture 2 : Picture of Lala Thanthimal, A rich merchant of Allahabad who started a horse-cart mail service  between Allahabad and Kanpur in 1841. 

Tuesday, October 1, 2013

संसदीय राजभाषा समिति द्वारा वाराणसी में राजभाषा निरीक्षण कार्यक्रम

संसदीय राजभाषा समिति की दूसरी उपसमिति द्वारा 30 सितम्बर, 2013 को वाराणसी में राजभाषा निरीक्षण कार्यक्रम के दौरान वाराणसी प्रधान डाकघर, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, डीजल रेल इंजन कारखाना और क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय का निरीक्षण किया गया। समिति के सांसद सदस्यों के रूप में डा. प्रसन्ना कुमार पाटसाणी (उड़ीसा) और श्री रघुनंदन शर्मा (मध्य प्रदेश) जी रहे। भारतीय डाक विभाग की तरफ से उत्तर प्रदेश परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री आशुतोष त्रिपाठी, निदेशालय से उपमहानिदेशक (राजभाषा) श्री संजय शरण, इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव, निदेशक (राजभाषा) श्री नरेश, सहायक निदेशक (राजभाषा) श्री आर. पी. सिंह, वाराणसी के वरिष्ठ डाक अधीक्षक श्री शिव सहाय मिश्र और सीनियर पोस्टमास्टर, वाराणसी प्रधान डाकघर श्री हर गोविन्द वर्मा उपस्थित रहे।

इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव, संसदीय राजभाषा समिति के सदस्य डा. प्रसन्ना कुमार पाटसाणी (उड़ीसा) का पुष्प-गुच्छ देकर स्वागत करते हुए।
इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव, संसदीय राजभाषा समिति के सदस्य श्री रघुनंदन शर्मा (मध्य प्रदेश) का पुष्प-गुच्छ देकर स्वागत करते हुए। 



संसदीय राजभाषा समिति के सदस्य डा. प्रसन्ना कुमार पाटसाणी, सांसद (लोकसभा) के साथ इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव एवं अन्य।
संसदीय राजभाषा समिति के सदस्य श्री रघुनंदन शर्मा सांसद (राज्यसभा) के साथ इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव ।
गुफ्तगू : संसदीय राजभाषा समिति के सदस्य श्री रघुनंदन शर्मा सांसद (राज्यसभा), इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव, रेल मंत्रालय के कार्यकारी निदेशक श्री प्रेमपाल शर्मा। 
वाराणसी प्रधान डाकघर द्वारा लगाया गया स्टाल।
वाराणसी प्रधान डाकघर द्वारा लगाया गए स्टाल के समक्ष : उत्तर प्रदेश परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री आशुतोष त्रिपाठी, निदेशालय से उपमहानिदेशक (राजभाषा) श्री संजय शरण, इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव, सहायक निदेशक (राजभाषा) श्री आर. पी. सिंह, वाराणसी के वरिष्ठ डाक अधीक्षक श्री शिव सहाय मिश्र।
व्यस्तता : निदेशालय से उपमहानिदेशक (राजभाषा) श्री संजय शरण और  इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव, 

संसदीय राजभाषा समिति की दूसरी उपसमिति द्वारा 30 सितम्बर, 2013 को वाराणसी में राजभाषा निरीक्षण कार्यक्रम के दौरान डाक विभाग के अधिकारीगण।
स्वागत : उत्तर प्रदेश परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री आशुतोष त्रिपाठी, संसदीय राजभाषा समिति के सदस्य श्री रघुनंदन शर्मा सांसद (राज्यसभा) का स्वागत करते हुए।
संसदीय राजभाषा समिति के सदस्य श्री रघुनंदन शर्मा, सांसद (राज्यसभा) उत्तर प्रदेश परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री आशुतोष त्रिपाठी और सीनियर पोस्टमास्टर व वाराणसी प्रधान डाकघर श्री हर गोविन्द वर्मा को समिति के प्रतिवेदन के पहले आठ खण्डों पर किये गए राष्ट्रपति के आदेशों का संकलन देते हुए।
फुर्सत के क्षण : उत्तर प्रदेश परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री आशुतोष त्रिपाठी, निदेशालय से उपमहानिदेशक (राजभाषा) श्री संजय शरण, इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव, निदेशक (राजभाषा) श्री नरेश।
निदेशालय से उपमहानिदेशक (राजभाषा) श्री संजय शरण, इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव, निदेशक (राजभाषा) श्री नरेश, वाराणसी के वरिष्ठ डाक अधीक्षक श्री शिव सहाय  मिश्र और स्टाफ के सदस्य।