Saturday, September 28, 2013

हिंदी सिर्फ भाषा ही नहीं, एक संस्कृति है

हिंदी पखवाड़ा के समापन अवसर पर विशेश्वरगंज स्थित वाराणसी प्रधान डाकघर और कैंट प्रधान डाकघर  में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के आरंभ में मुख्य अतिथि इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव का प्रवर डाक अधीक्षक श्री शिव सहाय मिश्रा ने स्वागत किया और हिंदी पखवाड़ा के दौरान आयोजित कार्यक्रमों की रूपरेखा पर प्रकाश डाला। 

 इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर अपने सम्बोधन में कहा कि हिंदी सिर्फ एक भाषा ही नहीं बल्कि एक संस्कृति है जो समूचे देश को जोड़ती है और विविधता में एकता की संकल्पना को परिलक्षित करती है। हिंदी को यदि राजभाषा का संवैधानिक दर्जा दिया गया है तो उसके पीछे इसके समृद्ध ऐतिहासिक विरासत एवं स्वत्रतंत्रता आदोलन में प्रखर भूमिका रही है। डाक निदेशक श्री यादव ने कहा कि हिन्दी को संस्कृत शब्द-संपदा एवं नवीन शब्द रचना सामथ्र्य विरासत में मिली है। वह देशी भाषाओं एवं अपनी बोलियों के साथ-साथ अन्य भाषाओं से भी शब्द लेने में संकोच नहीं करती। यही कारण है कि अंग्रेजी के मूल शब्द लगभग 10,000 हैं, जबकि हिन्दी के मूल शब्दों की संख्या ढाई लाख से भी अधिक है। ऐसे में हिंदी का महत्व सर्वविदित है।

  प्रवर डाक अधीक्षक वााराणसी (पूर्व) मंडल श्री शिव सहाय मिश्रा ने कहा कि हिंदी पखवाड़े का आयोजन का उद्देश्य सिर्फ हिंदी की चिंता के लिए नहीं होता बल्कि इसकी उन्नति व प्रगति कैसी हो इसे भी संज्ञान में लेने की आवश्यकता है। इसी क्रम में डाक अधीक्षक वाराणसी (पश्चिम) मंडल श्री आर॰एन॰यादव ने अधिकारियों व कर्मचारियों का आहवान किया कि सरकारी कार्य में हिंदी को बढ़ावा देने के लिए दिल से कार्य करें ताकि हिंदी को जो राष्ट्रभाषा का दर्जा दिया गया है वह सही मायने में प्राप्त हो सकें। सीनियर पोस्टमास्टर, प्रधान डाकघर वाराणसी श्री हर गोविन्द वर्मा ने कहा कि हिंदी पूरे देश को जोड़ने वाली भाषा है और सरकारी कामकाज में भी इसे बहुतायत में अपनाया जाना चाहिये। 

इस अवसर पर अधीक्षक डाकघर पश्चिम मण्डल आर0एन0यादव तथा प्रवर डाक अधीक्षक, वाराणसी (पूर्व) मण्डल वाराणसी शिव सहाय मिश्र द्वारा निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव, को उनके हिन्दी साहित्य में उत्कृष्ट योगदान के लिए शाल व स्मृति चिन्ह देकर सारस्वत सम्मानित किया गया.साथ ही, हिन्दी साहित्य सृजन कार्य में उल्लेखनीय योगदान के लिए गाय घाट उपडाकघर के पोस्टमास्टर केशव शरण, कार्यालय सहायक  मुरली मनोहर एवं डाक सहायक  गणेश प्रसाद ‘गम्भीर’ को हिन्दी साहित्य में उनके योगदान हेतु निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने शाल ओढ़ाकर व स्मृति चिन्ह देकर सारस्वत सम्मानित किया ।

निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर हिंदी पखवाड़ा के दौरान मंडलीय कार्यालय एवं वाराणसी प्रधान डाकघर में आयोजित कार्यक्रम के विजेताओं को सम्मानित भी किया। कार्यक्रम का संचालन श्री गणेश प्रसाद ‘गम्भीर’ द्वारा किया गया।  








Exhibitions mark conclusion of 'Hindi Pakhwara'

ALLAHABAD: The Hindi Pakhwara concluded with a programme organised at Allahabad GPO, Civil Lines on Saturday. Rahmatullah, senior superintendant of Post Offices, Allahabad division, welcomed the chief guest, Krishna Kumar Yadav, director Postal Services, Allahabad region and briefed about the programme.
Addressing the gathering, Yadav urged the officers and employees to encourage the use of Hindi in government work so that its status of national language could reflect in true spirit.
He further added that Hindi is the most organised language and Devanagari script is the most scientific script. Hindi is inherited from the great vocabulary of Sanskrit and also has a virtue of creation of new words by accepting words from all dialects and foreign languages, he said. "This is the reason behind 2 lakh 50 thousand words in Hindi vocabulary against 10,000 words in that of English," he added.
Rahamtullah said that the celebration of Hindi Pakhwara was not for worrying about the Hindi language but to think about its growth and progress.
Senior postmaster, Allahabad HO, Madhusudan Prasad Mishra, said Hindi is a language which links different parts of the country and it should be adapted vastly in official working.
The chief guest also distributed prize among the winners of various Hindi competitions organised at head post office, Allahabad.

Friday, September 27, 2013

Progressive use of Hindi promotes National Unity and Integrity - Aprajita Sharma Atique

Director of Accounts (Postal), Lucknow celebrated Hindi fort-night from 14/09/2013 to 27/09/2013 as a part of the programme to promote the use of Rajbhasha Hindi in official work.  The valedictory function of these celebrations was organized on 27th September, 2013 at DPA Lucknow. At the outset, Mr. R.K. Pal (Rajbhasha cell) welcomed the gathering which was graced by the presence of Director Mrs. Aprajita Sharma Atique.

During this two weeks long celebrations the officers and staff used Hindi for their official work to the extent possible. Also various programmes in Hindi were organized to reiterate the importance of official language.
The celebrations included an essay competition, noting and drafting competition, General knowledge quiz, kids poem recitation competition and departmental “ kavya goshthi”. The winners of various competitions held were honoured by DPA. While addressing the gathering, Director praised the staff for participating in this event with great enthusiasm. She said that the National Language of any nation is not only significant as a tool of communication but it carries basic culture / values of the people of the Nation. She said that every citizen should respect the Nation, National Language, Culture and its basic values.

She also said that the progressive use of Hindi promotes National Unity and Integrity. Further she appealed all the employees to use Hindi in their day to day work as per the policy of the Government of India.

The function was concluded by Mr. R.K. Pal with vote of thanks.

Tuesday, September 24, 2013

Hindi is not just a language but also a symbol of cultural heritage - Krishna Kumar Yadav

A programme was organized in Varanasi cantt Head Post Office on the occasion of Hindi Pakhwara on 24 Sept. 2013 . In the beginning of the programme, Sri S.S. Mishra, Sr Sudpt of Post Offices Varanasi (East) Dn. and Shri RN Yadav, Supdt. of Post Offices welcomed Chief Guest Sri Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region and briefed about the programme organized during Hindi Pakhwara.



Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad region said that Hindi is our mother tongue and one should not connect it with Pakhwara only. He said that Hindi is not just a language but also a symbol of cultural heritage, who is uniting languages across the country and had played an important role in emotional unity and promotion of cultural diversity of the country.

Mr. Yadav further added that Hindi is inherited with the great vocabulary of Sanskrit and also have a virtue of new word creation.  It accepts words from all dialects and foreign languages. This is the reason behind 2 lakh 50 thousand words in Hindi vocabulary against 10,000 words in that of English. In this way significance of Hindi is well-known.

The celebration of Hindi Pakhwara is not to worry of Hindi instead of thinking of growth and progress of Hindi said Sri S.S. Mishra Sr Supdt of Post Offices Varanasi (East) Dn. Meanwhile Sri R.N. Yadav Supdt. Of Post Offices Varanasi (West) Dn. said to the officers and the employees and urged to encourage Hindi in government work whole heartedly so that the status of national language could reflect in true spirit, Sri H.G. Mishra, Sr. Postmaster, Varanasi HO said that the Hindi is a linking language for the country and it should be adapted vastly in official working.



   At last Prizes were distrubuted by Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services among the winner officials of various Hindi competitions. At the same time, Shri Keshav Sharan, Sri Murali Manohar and Sri Ganesh Prasad 'Gambir' PA Varanasi HPO were awarded  for their contribution to Hindi literature. 

Saturday, September 21, 2013

Hindi has the caliber to become a global language - Krishna Kumar Yadav

A seminar on the topic “Role of Hindi in changing environments” and felicitation programme, to award winners of various competitions held during the fortnight, was organized on 20 September, 13 in the office of Postmaster General Allahabad. Chief Guest of the programme, Director Postal Services, Allahabad Region and himself a litterateur, Mr. Krishna Kumar Yadav said in his address that- Hindi has a very significant role in keeping intact Indian Culture. Today, if we want to popularize the use of Hindi and develop it as a global language then the need of the hour is to assimilate Hindi in our day to day life and not use it only in programme.

Speaking about “Role of Hindi in changing environments” Postal Director Mr. Krishna Kumar Yadav said that Hindi has all the caliber to become a global language, and today more than 150 universities are teaching Hindi as a language.  Now books in Hindi are available in almost all fields of study, trend of regional newspapers has grown, number of websites in Hindi is also increasing on internet, many companies of Information Technology have started project in Hindi. Information in Hindi is being searched indiscriminately using Google. Mr. Yadav said that earlier their was lack of uniformity in Hindi due to use of various fonts, but after arrival of Unicode for Hindi in 2003, expansion and use of Hindi gained momentum. He also said that in this age of internet, along with publication of e-versions of Hindi books, a number of Hindi papers and magazines are publishing their e-versions. This has immensely helped Hindi in gaining new dimensions as a language and literature.


Presiding over the programme as chairman Senior Superintendent of Post offices Mr. Rahmatullah, said that Hindi is our mother tongue and official language, and to ensure its wide reach to the people, its use on technological level is required.

In the beginning of the programme Mr. T. B. Singh, Assistant Director (Official Language) expressed his joy that Director Postal Services Mr. Krishna Kumar Yadav himself is a renowned writer and litterateur of Hindi language, as such we have his able guidance and support to promote use of Hindi in Department of Posts. He further said that Hindi is our mother tongue, and we should respect it and use it widely in our daily life. Assistant Superintendent of Posts Mr. Vinay Kumar said that we need to increase the use of Hindi not only as a language but also increase its applicability. Inspector of Posts Mr. A. K. Singh said that other than the language of literature Hindi is also a language of common conversation, and we need to promote it in its simplifies form.

On this occasion a number of officials expressed their views, including Deepak Kumar, VineetTandon, Vikram Singh, Ms. Laxmi. Vote of thanks was given by Assistant Director-III Mr. Tej Bahadur Singh and proceeding of the programme was conducted by Mr. Brijesh Kumar Sharma, Inspector of Posts.

On this occasion Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services felicitated the winners of various competitions held during the Hindi fortnight. Which include VineetTandon, Rajendra Prasad, Jagdish Kushwaha in Typing Competition; Ajay Prakash, R. K. Srivastava, Swapan Kumar for Essay competition; JagdishKushwaha, Ijlesh Kumar, Rambahadur for Hindi slogan respectively for first, second and third positions.



Friday, September 20, 2013

भारतीय संस्कृति को अक्षुण्ण रखने में हिंदी का महत्वपूर्ण योगदान

हिन्दी-पखवाड़ा के अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल, इलाहाबाद परिक्षेत्र कार्यालय में ’’बदलते परिवेश में हिन्दी की भूमिका’’ विषय पर एक संगोष्ठी एवं विजेताओं को पुरस्कृत करने का कार्यक्रम 20 सितम्बर 13 को आयोजित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं एवं चर्चित ब्लागर व साहित्यकार कृष्ण कुमार यादव उपस्थित थे। कार्यक्रम के आंरभ में प्रवर डाक अधीक्षक, इलाहाबाद मंडल श्री रहमतउल्लाह ने श्री यादव का शाल ओढ़ाकर व स्मृति चिन्ह देकर स्वागत किया।

इस अवसर पर निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने अपने उद्बोधन में कहा कि - भारतीय संस्कृति को अक्षुण्ण रखने में हिंदी का बहुत बड़ा योगदान है। जरूरत इस बात की है कि हम इसके प्रचार-प्रसार और विकास के क्रम में आयोजनों से परे अपनी दैनिक दिनचर्या से भी जोड़ें।
’’बदलते परिवेश में हिन्दी की भूमिका’’ पर डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि हिंदी में वैश्विक भाषा बनने की पूरी क्षमता है और आज 150 से अधिक विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जा रही है। विज्ञान-प्रौद्योगिकी से लेकर तमाम विषयों पर हिन्दी की किताबें अब उपलब्ध हैं, क्षेत्रीय अखबारों का प्रचलन बढ़ा है, इण्टरनेट पर हिन्दी की बेबसाइटों में बढ़ोत्तरी हो रही है, सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कई कम्पनियों ने हिन्दी भाषा में परियोजनाएं आरम्भ की हैं । गूगल से हिन्दी में जानकारियाँ धड़ल्ले से खोजी जा रही हैं। श्री यादव ने कहा कि पहले जहाँ तमाम फाण्ट के चलते हिन्दी का स्वरूप एक जैसा नहीं दिखता था, वहीं वर्ष 2003 में यूनीकोड हिंदी में आया और इसके माध्यम से हिन्दी को अपने विस्तार में काफी सुलभता हासिल हुई। उन्होंने  कहा कि इंटरनेट के इस दौर में महत्वपूर्ण हिन्दी किताबों के ई प्रकाशन के साथ-साथ तमाम हिन्दी पत्र-पत्रिकाएं भी अपना ई-संस्करण जारी कर रही हैं, जिससे वैश्विक स्तर पर  हिन्दी भाषा व साहित्य को नए आयाम मिले हैं। श्री यादव ने हिंदी-दिवस की आलोचना करने वालों को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि, जब लोग जन्मदिन मनाते हैं, नवरात्र मनाते हैं, अष्टमी-पूजन करते हैं तो फिर सवाल नहीं उठता। लेकिन जब  हिंदी को लेकर उत्सव मनते हों तो लोग कहते हैं यह खाना-पूर्ति है, इस सोच से बाहर निकलने की जरुरत है।

कार्यक्रम की  अध्यक्षता कर रहे प्रवर डाक अधीक्षक, इलाहाबाद मंडल श्री रहमतउल्लाह ने कहा कि हिंदी हमारी मातृ भाषा के साथ-साथ राजभाषा भी है और लोगों तक पहुँच स्थापित करने के लिए टेक्नॅालाजी स्तर पर इसका व्यापक प्रयोग करने की जरूरत है। 


कार्यक्रम के आरंभ में अपने सम्बोधन में सहायक निदेशक (हिंदी) टी. बी. सिंह ने इस बात पर प्रसन्नता जाहिर कि निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव स्वयं हिन्दी के सम्मानित लेखक और साहित्यकार हैं, ऐसे में डाक विभाग में राजभाषा हिन्दी के प्रति लोगों को प्रवृत्त करने में उनका पूरा मार्गदर्शन मिल रहा है। उन्होंने कहा कि राजभाषा हिंदी अपनी मातृभाषा है, इसलिए इसका सम्मान करना चाहिए और बहुतायत में प्रयोग करना चाहिए। 

सहायक डाक अधीक्षक विनय कुमार ने कहा कि हिंदी को भाषा के साथ-साथ प्रयोजनीयता से भी जोड़ने की जरूरत है। डाक निरीक्षक ए. के. सिंह ने कहा कि, हिंदी साहित्य के साथ-साथ बोलचाल की भी भाषा है अतः इसे सरलीकरण रूप में आगे बढ़ाने की जरूरत है। 

इस अवसर पर डाक निरीक्षक दीपक कुमार, विनीत टन्डन, पंकज मौर्य, विक्रम सिंह, कु0 लक्ष्मी सहित तमाम कर्मचारियों ने अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम में स्वागत भाषण सहायक निदेशक (राज भाषा) श्री टी बी सिंह आभार सहायक निदेशक तृतीय श्री तेज बहादुर सिंह व कार्यक्रम का संचालन श्री बृजेश कुमार शर्मा, निरीक्षक डाक द्वारा किया गया। 

इस अवसर पर निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने हिंदी पखवाड़े के दौरान आयोजित प्रतियोगिता के विजेताओं को सम्मानित भी किया। इनमें टंकण प्रतियोगिता में सर्वश्री विनीत टन्डन, राजेन्द्र प्रसाद, जगदीश कुशवाहा, निबन्ध प्रतियोगिता में अजय प्रकाश, स्वप्न कुमार, आर के श्रीवास्तव व हिंदी स्लोगन में जगदीश कुशवाहा, इजलेश कुमार, रामबहादुर ने क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय पुरस्कार प्राप्त किया।

(प्रस्तुति- तेजबहादुर सिंह, सहायक निदेशक (राजभाषा) कार्यालय-पोस्टमास्टर जनरल, इलाहाबाद परिक्षेत्र, इलाहाबाद-211001)

Monday, September 9, 2013

Project Arrow aims to give Post Offices a makeover

With the purpose to create awareness among the Postmasters of Project Arrow Post Offices about new technologies, changing work-scenario and to enhance their understanding about Customer-care a one-day workshop was organised on 8th September, 2013 at Civil lines Allahabad GPO for Allahabad Division. The workshop was inaugurated by Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region. The workshop was attended by 73 Postmasters and Assistant Superintendents of Posts Offices/ Inspector of Post Offices, who were updated about the latest and upcoming changes and new postal services through Power Point Presentation.
   While addressing the programme as Chief Guest Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Allahabad Region said that “Project arrow” is a very ambitious project of Department of Posts with a objective of changing the image of Post offices in all aspects. He added that department is emphasizing on its core service i.e. prompt delivery under “project arrow”. This project covers delivery and dispatch of all type of mails whether it is ordinary, Registered, Money orders, Speed post Articles is being ensured on the same day; Timely clearance of Letter Boxes; rationalization of delivery Beat and dense monitoring of delivery to make it more effective. Similarly the Savings Bank work is also being computerized completely to avoid delay caused of manual working. Director Mr. Krishna Kumar Yadav also told that all the Post offices of Urban as well as rural area will soon be a part of “Core Banking Solution” and the depositors of Post office will be able to take advantage of facilities like Net-banking, Mobile banking and ATM. It will be a revolutionary step in the field of banking.

Director Postal Services Sri Krishna Kumar Yadav addressed Postmasters and told them that their activities in field create an image of department, so they have to be more courteous and responsive for customer. In this era of competition we just cannot sit idle to earn business instead of that we have to approach customers, we have to interact with them about our services and to make them aware of our different services, by this way only we can reach to our goal.
Mr. Yadav appealed to the Postmasters to ensure opening of at least one savings deposit/ recurring deposit account in each family through special drive. He also asked them to increase number of Postal Life Insurance and Rural Postal Life Insurance policies by organizing Dak-Melas in the campus of Government and semi Govt departments.
Sr. Superintendent of Post Offices, Allahabad Dn. Mr. Rahmatullah said that all the postal services are being monitored regularly under project arrow scheme and the improvement caused of it will definitely be helpful to the customers for getting modernized services of postal department. The work of branch offices located in remote areas will be more transparent in account with the post offices transformed under project arrow.
On this occasion a number of officers and employee including Mr. T.B. Singh Asst. Director, Mr. M.P. Mishra Sr. Postmaster Allahabad GPO, Mr. Deepak Kumar Inspector Posts (Project Arrow), Mr. R. N. Yadav ASP (HQ) Allahabad Dn. etc. were present.



पोस्टमास्टरों को फील्ड में ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने की जरुरत - डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव

इलाहाबाद मंडल के प्रोजेक्ट ऐरो डाकघरों के पोस्टमास्टरों  को डाक विभाग में नित हो रहे परिवर्तनों से रूबरू कराने के लिए एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन 8 सितम्बर को सिविल लाइंस स्थित इलाहाबाद जीपीओ में किया गया। कार्यशाला का उद्घाटन इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने किया। इस अवसर पर कुल 73 पोस्टमास्टरऔर सहायक डाक अधीक्षकों/डाक निरीक्षकों ने कार्यशाला में भाग लिया। इस अवसर पर विभिन्न डाक सेवाओं के बारे में पावर प्वाइंट द्वारा प्रस्तुति देकर पोस्टमास्टरों  को अद्यतन व प्रोत्साहित किया गया।

    कार्यशाला का उद्घाटन करते हुए मुख्य अतिथि इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि प्रोजेक्ट ऐरो डाक विभाग की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है, जिसका लक्ष्य डाकघरों का चेहरा पूर्णरूप से बदलना है। प्रोजेक्ट एरो के माध्यम से डाक विभाग अपनी मूल सेवा डाक वितरण पर विशेष रूप से जोर दे रहा है। डाक वितरण के तहत प्राप्ति के दिन ही सभी प्रकार की डाक चाहे वह साधारण, पंजीकृत, स्पीड पोस्ट या मनीआर्डर हो का उसी दिन शतप्रतिशत वितरण व डिस्पैच, लेटर बाक्सों की समुचित निकासी और डाक को उसी दिन की डाक में शामिल करना, डाक बीटों के पुनर्निर्धारण द्वारा वितरण को और प्रभावी बनाना एवं डाक वितरण की प्रतिदिन मानीटरिंग द्वारा इसे और भी प्रभावी बनाया जा रहा है। इसी प्रकार बचत बैंक सेवाओं  को पूर्णतया कम्प्यूटराइज्ड कर उनकी शतप्रतिशत डाटा फीडिंग और सिगनेचर स्कैनिंग भी कराई जा रही है, ताकि मैनुअली ढंग से कार्य संपादित करने पर होने वाली देरी से बचा जा सके। डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि शीघ्र ही डाकघरों को सीबीएस से जोड़ा जा रहा है। जिससे सिर्फ शहरों ही नहीं बल्कि ग्रामीण स्तर तक बैंकिग क्षेत्रों में क्रांतिकारी कदम का सूत्रपात होगा और डाकघरों के खाताधारक नेटबैंकिग, मोबाइल बैंकिंग एवं एटीएम सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे ।

निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने पोस्टमास्टरों   से रूबरू होते हुए कहा कि फील्ड में उनकी कार्य गतिविधियाँ ही विभाग के प्रति अवधारणा (इमेज) बनाती हैं, ऐसे में उन्हें ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने की जरुरत है। आज के प्रतियोगी दौर में यह सोचना कि  मात्र काउंटर पर सेवाएँ देकर जनता को आकर्षित किया जा सकता है, उचित नहीं है। ज्यादा राजस्व के लिए हमें खुद लोगों के पास जाना होगा, नियमित संवाद स्थापित करते हुए उन्हें सेवाओं और गुणवत्ता के बारे में जागरूक करना होगा, तभी लक्ष्यों की प्राप्ति हो सकेगी।

श्री यादव ने विशेष अभियान चलकर हर घर में एक बचत/आवर्ती  खाता खोलने पर जोर दिया। उन्होंने सरकारी-अर्धसरकारी विभागों में डाक  मेले लगाकर ”डाक जीवन बीमा” और ”ग्रामीण डाक जीवन बीमा” की लक्ष्य प्राप्ति पर भी जोर दिया।

  इलाहाबाद मंडल के प्रवर अधीक्षक डाकघर श्री रहतमउल्लाह ने कहा कि प्रोजेक्ट ऐरो के तहत डाक सेवाओं की नियमित मानीटरिंग की जा रही है और इनके उन्नयन से जनता को काफी सहूलियत होगी एवं उन्हें डाक विभाग की आधुनिक सेवाओं का लाभ मिल सकेगा। इन डाकघरों के प्रोजेक्ट एरो के अन्तर्गत कायाकल्प होने के साथ ही दूर-दराज ग्रामीण अंचलों में इसके लेखान्तर्गत स्थित शाखा डाकघरों की कार्यप्रणाली में भी काफी पारदर्शिता आयेगी।

   इस अवसर पर सहायक निदेशक श्री टी बी सिंह, इलाहाबाद जीपीओ के सीनियर पोस्टमास्टर मधुसुदन प्रसाद मिश्र, डाक निरीक्षक (प्रोजेक्ट ऐरो) दीपक कुमार सहायक डाक अधीक्षक (मुख्यालय) आर एन यादव सहित तमाम अधिकारी एवं कर्मचारी गण उपस्थित थे।