Thursday, August 30, 2012

भाभा के दुर्घटनाग्रस्त विमान की भारतीय डाक मिली

फ्रांस के मोंट ब्लांक पर्वतों में 46 वर्ष पहले दुर्घटनाग्रस्त हुए एयर इंडिया की उड़ान संख्या 101 का चिट्ठियों से भरा एक डिप्लोमेटिक बैग बरामद हुआ है। इस दुर्घटना में भारत के शीर्षस्थ परमाणु वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा का भी निधन हो गया था।

आल्पस पर्वतमालाओं में स्थित मोंट ब्लांक में छुट्टियां मनाने आए एक पर्वतारोहियों ने पिछले सप्ताह जूट के बने इस बैग को एक ग्लेशियर पर पड़ा देखा था। मीडिया की खबरों के अनुसार इस बैग को एक पर्वत रक्षण दल के एक कर्मी आरुआं क्रिस्टमैन ने अपने एक मित्र के माध्यम से सफलतापूर्वक ढूंढ़ निकाला है।

क्रिस्टमैन ने अपनी इस खोज से बेहद उत्साहित होते हुए कहा कि हमें उम्मीद थी कि उस जगह से हमें हीरे अथवा सोने के कुछ आभूषण बरामद होंगे लेकिन पानी में भीगी कुछ डाक और कुछ भारतीय अखबार हमारे हाथ लगे। इस डाक को 46 वर्षों पहले ही अपने गंतव्य तक पहुंच जाना चाहिए था।

क्रिस्टमैन ने यह भी बताया कि यह बैग वहां पर इस स्थिति में मौजूद था जैसे किसी ने इसे जानबूझकर वहां रखा हो। घटनास्थल पर विमान का एक केबिन एक जूता कुछ केबल इत्यादि भी पडे़ हुए थे। इस बैग के ऊपर डिप्लोमेटिक मेल और भारत का विदेश मंत्रालय का नाम चस्पा है। बैग को चेमोनिक्स कस्बे के पुलिस विभाग को सौंप दिया गया है। पेरिस स्थित भारतीय दूतावास ने बताया है कि पुलिस ने फिलहाल उसे बैग की बरामदगी की सूचना नहीं दी है लेकिन दूतावास के अधिकारी इस संबंध में पड़ताल कर रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि 24 जनवरी 1966 को मोंट ब्लांक के ऊपर से गुजर रहा एयर इंडिया का बोइंग 707 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। दुर्घटना के वक्त इसमें भाभा समेत 106 यात्री और 11 कर्मी दल के सदस्य सवार थे। दुर्घटना में कुल मिलाकर 117 लोगों की मौत हुई थी।

Wednesday, August 29, 2012

Net savvy duo gets 'Best Couple Blogger of Decade' award

The net-savvy husband-wife duo Krishna Kumar Yadav and Akanksha Yadav have been presented the "Couple Blogger of the Decade", award by 'Parikalpana Group' at an international conference of bloggers at Rai Umanath Bali Auditorium in Lucknow.

The award was jointly given to the couple by renowned litterateur Udbhrant, ex-Inspector General of Police Shailendra Sagar and Director of Uttar Pradesh Hindi Sansthan Sudhakar Adib at the conference.

KK Yadav who is posted as Director Postal Services, Allahabad Region in the city is also known for his literary works and has penned six books. He is active in the field of Hindi blogging with blogs 'Dakiya Dak Laya' and 'Sabd Srijan Ki Aur'. His two blogs showcased comments from the bloggers from 94 and 64 countries respectively.

His wife Akanksha Yadav who writes intensively on women empowerment is famous for blog' Sabd Sikhar'. People from 66 countries have studied her blog other than above, this couple jointly operates blogs 'Saptrangi Prem', 'Bal Dunia' and 'Utsav ke Rang'.

The Director also shares interesting facts related to Department of Posts with his readers, alongwith his literary works in the two blogs separately created for the purpose while Akanksha writes about various aspects of Hindi literature in her blog, 'Shabd Shikhar'.

Interestingly, their daughter Akshitaa (Pakhi)'s blog 'Pakhi ki Duniya' who has been awarded 'National Child Award' by the Government of India last year, received comments from 94 countries.

"The blogs are a medium to express our creative insight. We started blogging in the year 2008 and within five years we were operating ten blogs on various subjects, "said KK Yadav.

He added, after the start of Hindi blogging in the year 2003, people like him found a new medium to express themselves and showcase their creatively across the globe. The couple said that Hindi language would be propagated in a better way with the help of blogs.

Courtesy : Hindustan Times, 29 August 2012.

'डाकिया डाक लाया' ने दिलाया ’दशक के श्रेष्ठ दम्पत्ति ब्लागर' का सम्मान

जीवन में कुछ करने की चाह हो तो रास्ते खुद-ब-खुद बन जाते हैं। हिन्दी-ब्लागिंग के क्षेत्र में ऐसा ही रास्ता अखि़्तयार किया कृष्ण कुमार यादव व आकांक्षा यादव ने। 2008 में अपना ब्लागिंग-सफर आरंभ करने वाले इस दम्पत्ति को परिकल्पना समूह द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ’’दशक के श्रेष्ठ दम्पत्ति ब्लागर’’ के रूप में सम्मानित किया गया है। इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं पद पर पदासीन कृष्ण कुमार यादव हिन्दी-साहित्य में एक सुपरिचित नाम हैं, जिनकी 6 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं । उनके जीवन पर एक पुस्तक ’बढ़ते चरण शिखर की ओर’ भी प्रकाशित हो चुकी है। आकांक्षा यादव भी नारी-सशक्तीकरण को लेकर प्रखरता से लिखती हैं । साहित्य के साथ-साथ ब्लागिंग में भी हमजोली यादव दम्पत्ति को 27 अगस्त, 2012 को लखनऊ में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लागर सम्मेलन में 'दशक के श्रेष्ठ ब्लागर दम्पत्ति’ का अवार्ड दिया गया। मुख्य अतिथि श्री श्री प्रकाश जायसवाल केन्द्रीय कोयला मंत्री की अनुपस्थिति में यह सम्मान वरिष्ठ साहित्यकार उदभ्रांत, पूर्व पुलिस महानिरीक्षक शैलेन्द्र सागर आदि ने संयुक्त रूप से दिया।

गौरतलब है कि हिंदी ब्लागिंग का आरंभ वर्ष 2003 में हुआ और इस पूरे एक दशक में तमाम ब्लागरों ने अपनी
अभिव्यक्तियों को विस्तार दिया। पर कृष्ण कुमार-आकांक्षा यादव ने वर्ष 2008 में ब्लाग जगत में कदम रखा और 5 साल के भीतर ही सपरिवार विभिन्न विषयों पर आधारित दसियों ब्लाग का संचालन-सम्पादन करके कई लोगों को ब्लागिंग की तरफ प्रवृत्त किया और अपनी साहित्यिक रचनाधर्मिता के साथ-साथ ब्लागिंग को भी नये आयाम दिये। इन दम्पत्ति के ब्लागों को सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी भरपूर सराहना मिली। कृष्ण कुमार यादव के ब्लाग ’डाकिया डाक लाया’ को 94 देशों, ’शब्द सृजन की ओर’ को 70 देशों, आकांक्षा यादव के ब्लाग ’शब्द शिखर’ को 66 देशों और इस ब्लागर दम्पत्ति की सुपुत्री एवं पिछले वर्ष ब्लागिंग हेतु भारत सरकार द्वारा ’’राष्ट्रीय बाल पुरस्कार’’ से सम्मानित अक्षिता (पाखी) के ब्लाग ’पाखी की दुनिया’ को 94 देशों में देखा-पढ़ा जा चुका है।

उमानाथ बाली प्रेक्षागृह, कैसर बाग, लखनऊ में आयोजित इस अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन में न्यू मीडिया की संभावना एवं चुनौतियों को लेकर तमाम सेमिनार हुये। ’न्यू मीडिया के सामाजिक सरोकार’ विषय आधारित सेमिनार में मुख्य अतिथि के रूप में कृष्ण कुमार यादव ने ब्लागिंग को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने की बात कही और एक माध्यम के बजाय इसके विधागत विकास पर जोर दिया।

इस दम्पत्ति को सम्मानित किये जाने के अवसर पर देश-विदेश के तमाम ब्लागर, साहित्यकार, पत्रकार व प्रशासक उपस्थित थे। प्रमुख लोगों में मुद्रा राक्षस, वीरेन्द्र यादव, पूर्णिमा वर्मन, रवि रतलामी, रवीन्द्र प्रभात , जाकिर अली ’रजनीश’, शिखा वार्ष्णेय, सुभाष राय इत्यादि प्रमुख थे।
साभार : राष्ट्रीय सहारा, 29 अगस्त, 2012

Monday, August 20, 2012

अब घर बैठे लीजिए 'ज्ञान की डाक'

बारहों महीने प्रवेश की छूट देने के बाद उत्तर प्रदेश राजर्षिटंडन मुक्त विश्वविद्यालय (यूपीआरटीओयू) ने अब पाठ्यसामग्री भेजने के तरीके में भी बदलाव कर दिया है। पाठ्यसामग्री अब अध्ययन केंद्रों से नहीं, रजिस्टर्ड डाक से सीधे परीक्षार्थी के घर भेजी जाएगी। यह व्यवस्था शैक्षिक सत्र 2012-2013 से लागू कर दी गई है। खास बात यह है कि जिस दिन पाठ्यसामग्री भेजी जाएगी, उसी दिन परीक्षार्थी को एसएमएस/फोन से इसकी सूचना दे दी जाएगी।

राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय के प्रदेश में 450 से अधिक अध्ययन केंद्र हैं, जहां 50 हजार से अधिक विद्यार्थी विभिन्न पाठ्यक्रमों में पंजीकृत हैं। अभी तक पाठ्यसामग्री जिस अध्ययन केंद्र पर विद्यार्थी प्रवेश लेता था वहां से दी जाती रही है। इसमें कई बार प्रवेश लेने के चार से छह माह बाद पाठ्यसामग्री मिल पाती थी। कई बार परीक्षा शुरू होने तक भी नहीं मिल पाती थी। यूपीआरटीओयू के लिए प्रदेश के 450 परीक्षा केंद्रों पर 50 हजार पैकेट बंटवाना अपने आप में 'सिरदर्द' था। इसके लिए सैकड़ों गाड़ियों का टेंडर देना पड़ता था। इसमें मुक्त विवि का करोड़ों रुपया खर्च होता था। इसको देखते हुए मुक्त विवि ने रजिस्टर्ड डाक से पाठ्य सामग्री सीधे परीक्षार्थी के पते पर भिजवाने का निर्णय लिया है। पैकेट में अधिन्यास (एसाइनमेंट), स्टडी मैटेरियल 'जिज्ञासा' पत्रिका, जिसमें मुक्त विश्वविद्यालय से संबंधित सभी सवालों के जवाब होंगे।

----------------

वाटर प्रूफ और आकर्षक होगा पैकेट

खास बात यह है पाठ्य सामग्री के लिए एक विशेष प्रकार का पैकेट भी बनाया जा रहा है, जिसमें किताबों के भीगने और फटने का डर नहीं होगा। पैकेट के प्रारूप निर्धारण के लिए एक कमेटी का गठन किया गया है। पैकेट का जो प्रारूप अभी तक तय हो पाया है उसके मुताबिक पैकेट वाटर प्रूफ व आकर्षक होगा।

------------------

वर्जन

डाक विभाग के पास लाइसेंस लेने के लिए आवेदन किया है। एक सप्ताह के अंदर लाइसेंस मिल जाएगा। इसके बाद इसी शैक्षिक सत्र से डाक के द्वारा सीधे परीक्षार्थी के घर ही पाठ्यसामग्री भेजने की व्यवस्था की जाएगी।

प्रो. एके बख्शी, कुलपति उप्र राजर्षि टंडन मुक्त विवि

Courtesy :Jagran

Tuesday, August 14, 2012

Postal officer KK Yadav, wife bag blogger award

Director Postal Services, Allahabad region, KK Yadav and his wife Akanksha Yadav have been selected for the Couple Blogger of the Decade award for their contribution in the field of blogging.

The couple has been selected by Parikalpana Group for the award, conferred at International level to five bloggers and five blogs including Most Popular Blogger Couple of the Year. While Yadav is active through his blog Shabd Srijan Ki Or (http://www.kkyadav.blogspot.in/) and Dakia Dak Laya (http://dakbabu.blogspot.in/), his wife's blog is Shabd Shikhar (http://shabdshikhar.blogspot.in/).


The couple also jointly operates blogs viz Saptrangi Prem, Bal Dunia and Utsav ke Rang. While declaring the award coordinators wrote, "While Krishna Kr Yadav shares his experience of Department of Posts with his readers, Akanksha writes about various aspects of Hindi literature in her blog."

Their daughter Akshitaa (Pakhi) was last year awarded Best Baby blogger award for her blog "Pakhi ki duniya" (http://www.pakhi-akshita.blogspot.in/) at Hindi Bhawan, New Delhi. She is the youngest 'National Child Award Winner' of India, merely at the age of four plus. It was the first time when Government of India honoured a blogger.

The award will be conferred to the couple during the International Bloggers Conference to be held at Rai Umanath Bali auditorium, Lucknow on August 27. The conference is being organised by Tasleem and Parikalpana website Group. A number of National as well as International bloggers will attend the conference and discuss social aspects of new media i.e blog, website, webportal, social networking sites etc.

Courtesy : Times of India

Monday, August 13, 2012

India Post Selects Infosys to Transform its Financial Services

Infosys, a global leader in consulting and technology, today announced that it has been selected by the Department of Post, Ministry of Communications and Information Technology, Government of India for a mission critical program that will enhance India Post's financial services across 150,000 post offices in the country. This is part of the 'India Post 2012' modernization program that aims at bringing transparency, agility, flexibility and scalability to India Post's operations.

Under the agreement, Infosys and India Post will embark on a transformational initiative, which encompasses Financial Services System Integration. This project, estimated at INR 700 crores, aims to transform India Post into a technology-enabled and autonomous market leader, by revolutionizing its financial operations and end-user services.

As Financial Services System Integrator, Infosys will implement and manage its flagship Finacle™ Core Banking and McCamish™ Insurance products to help India Post transform its banking and insurance operations - covering more than 200 million banking customers across urban and rural India; including a large base of insurance customers. Infosys will be installing 1,000 ATMs for India Post as part of this program to increase the effectiveness of its delivery channel and will also implement an electronic Content Management system to manage millions of documents generated as part of India Post's financial operations.

For the project, Infosys will support India Post in the following areas:

•Complete System Integration including designing, building, supplying, installing and commissioning hardware and software
•Data migration and deployment of the platforms and solutions across all identified post offices
•Supporting multi-year managed services, application support and infrastructure operations
•Training more than 35,000 India Post employees across the country on the usage and deployment of the new platform and solutions
Speaking about this deal, Mr. A. S. Prasad, Deputy Director General, Financial Services, India Post, said, "We are confident that Infosys' extensive global experience with transformational programs in the financial and systems integration space will be instrumental in rolling out this ambitious program aimed at driving technology superiority at India Post, by introducing key solutions like core banking. This transformational program is expected to enhance India Post's services, bringing us on par with the best in the banking industry; and will help us expand the reach and effectiveness of our operations through technology enablement of India Post employees."

"Infosys will be drawing upon its expertise and domain knowledge across the banking and financial sector, to transform India Post's services to empower end-consumers. This project offers us rich scope to innovate and optimize the largest financial and insurance distribution channel in the country and we look forward to deploying our strong capabilities across industries and technologies, in a role that has the potential to significantly impact millions of citizens in the country," said Mr. CN Raghupathi, VP and Head India Business, Infosys.

About India Post

For more than 150 years, the Department of Posts (DoP) has been the backbone of the country's communication and has played a crucial role in the country's socio-economic development. It touches the lives of Indian citizens in many ways: delivering mails, accepting deposits under Small Savings Schemes, providing life insurance cover under Postal Life Insurance (PLI) and Rural Postal Life Insurance (RPLI) and providing retail services like bill collection, sale of forms, etc. The DoP also acts as an agent for Government of India in discharging other services for citizens such as Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Scheme (MGNREGS) wage disbursement and old age pension payments. With 1, 55,015 Post Offices, the DoP has the most widely distributed postal network in the world.

About Infosys

Many of the world's most successful organizations rely on the 151,000 people of Infosys to deliver measurable business value. Infosys provides business consulting, technology, engineering and outsourcing services to help clients in over 30 countries build tomorrow's enterprise. For more information about Infosys (NASDAQ: INFY), visit http://www.infosys.com

Safe Harbor

Certain statements in this release concerning our future growth prospects are forward-looking statements, which involve a number of risks and uncertainties that could cause actual results to differ materially from those in such forward-looking statements. The risks and uncertainties relating to these statements include, but are not limited to, risks and uncertainties regarding fluctuations in earnings, fluctuations in foreign exchange rates, our ability to manage growth, intense competition in IT services including those factors which may affect our cost advantage, wage increases in India, our ability to attract and retain highly skilled professionals, time and cost overruns on fixed-price, fixed-time frame contracts, client concentration, restrictions on immigration, industry segment concentration, our ability to manage our international operations, reduced demand for technology in our key focus areas, disruptions in telecommunication networks or system failures, our ability to successfully complete and integrate potential acquisitions, liability for damages on our service contracts, the success of the companies in which Infosys has made strategic investments, withdrawal or expiration of governmental fiscal incentives, political instability and regional conflicts, legal restrictions on raising capital or acquiring companies outside India, and unauthorized use of our intellectual property and general economic conditions affecting our industry. Additional risks that could affect our future operating results are more fully described in our United States Securities and Exchange Commission filings including our Annual Report on Form 20-F for the fiscal year ended March 31, 2012 and on Form 6-K for the quarters ended September 30, 2011, December 31, 2011 and June 30, 2012.These filings are available at http://www.sec.gov. Infosys may, from time to time, make additional written and oral forward-looking statements, including statements contained in the company's filings with the Securities and Exchange Commission and our reports to shareholders. The company does not undertake to update any forward-looking statements that may be made from time to time by or on behalf of the company.

Courtesy : News9.com

Thursday, August 9, 2012

'डाकिया डाक लाया' ने दिलाया 'दशक के श्रेष्ठ ब्लागर दंपत्ति' का सम्मान

ब्लागिंग के क्षेत्र में अप्रतिम योगदान हेतु इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव और उनकी पत्नी आकांक्षा यादव को 'दशक के श्रेष्ठ ब्लॉगर दंपति' का सम्मान प्रदान किए जाने हेतु चयनित किया गया है। परिकल्पना समूह की तरफ से अन्तराष्ट्रीय स्तर पर दिए जाने वाले इस सम्मान के तहत हिंदी ब्लोगिंग में दशक के सर्वाधिक चर्चित पाँच ब्लागर और पाँच ब्लॉग के साथ-साथ दशक के चर्चित श्रेष्ठ ब्लोगर दंपत्ति के रूप में कृष्ण कुमार-आकांक्षा यादव का चयन किया गया है.


कृष्ण कुमार यादव जहाँ 'शब्द-सृजन की ओर' और 'डाकिया डाक लाया' ब्लॉग के माध्यम से सक्रिय हैं, वहीँ आकांक्षा यादव 'शब्द-शिखर' ब्लॉग के माध्यम से. इसके अलावा इस युगल-दंपत्ति द्वारा सप्तरंगी प्रेम, बाल-दुनिया और उत्सव के रंग ब्लॉगों का भी युगल सञ्चालन किया जाता है. उपरोक्त सम्मान की घोषणा करते हुए संयोजकों ने लिखा कि- ''कृष्ण कुमार यादव ने 'डाकिया डाक लाया' ब्लॉग के माध्यम से डाक विभाग की सुखद अनुभूतियों से पाठकों को रूबरू कराने का बीड़ा उठाया तो आकांक्षा यादव ने 'शब्द-शिखर' के माध्यम से साहित्य के विभिन्न आयामों से रूबरू कराने का। एक स्वर है तो दूसरी साधना। हिन्दी ब्लोगजगत में जूनून की हद तक सक्रिय इस ब्लॉगर दंपति ने हिंदी ब्लागिंग को कई नए आयाम दिए हैं.''

गौरतलब है कि यादव दम्पति की सुपुत्री अक्षिता (पाखी) को पिछले साल हिंदी भवन, नई दिल्ली में 'श्रेष्ठ नन्हीं ब्लागर' सम्मान से सम्मानित किया गया था तो 14 नवम्बर, 2012 को विज्ञान भवन, नई दिल्ली में भारत सरकार द्वारा अक्षिता को आर्ट और ब्लागिंग के लिए 'राष्ट्रीय बाल पुरस्कार' भी प्रदान किया गया. मात्र साढ़े चार साल की उम्र में राष्ट्रीय बाल पुरस्कार प्राप्त कर अक्षिता ने जहाँ भारत की सबसे कम उम्र की बाल पुरस्कार विजेता होने का सौभाग्य प्राप्त किया, वहीँ पहली बार भारत सरकार द्वारा किसी ब्लागर को कोई राजकीय सम्मान दिया गया. फ़िलहाल अक्षिता गर्ल्स हाई स्कूल, इलाहाबाद में प्रेप में पढ़ती है.

उपरोक्त सम्मान दिनांक 27.08.2012 को लखनऊ के क़ैसर बाग स्थित राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन मे प्रदान किया जायेगा. इस अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन का आयोजन तस्लीम व परिकल्पना समूह कर रहा है । इस समारोह में देश व विदेश के तमाम चर्चित ब्लॉगर जुटेंगे और नए मीडिया जैसे कि ब्लॉग, वेबसाईट, वेब पोर्टल,सोशल नेटवर्किंग साइट इत्यादि के सामाजिक सरोकार पर भी बात करेंगे ।
(साभार : विभिन्न समाचार-पत्रों में प्रकाशित समाचार)
************************************************************************************









(ब्लागिंग के क्षेत्र में अप्रतिम योगदान हेतु हमें (कृष्ण कुमार यादव और आकांक्षा यादव)'दशक के श्रेष्ठ ब्लॉगर दंपति' का सम्मान प्रदान किए जाने हेतु चयनित किया गया है। परिकल्पना समूह की तरफ से अन्तराष्ट्रीय स्तर पर दिए जाने वाले इस सम्मान के तहत हिंदी ब्लोगिंग में दशक के सर्वाधिक चर्चित पाँच ब्लागर और पाँच ब्लॉग के साथ-साथ दशक के श्रेष्ठ चर्चित ब्लोगर दंपत्ति के रूप में कृष्ण कुमार-आकांक्षा यादव का चयन किया गया है...इस सम्मान-उपलब्धि के पीछे आप सभी का योगदान है. आप सभी के स्नेह और सहयोग के लिए आभार.'ब्लॉग-पुरुष' रवीन्द्र प्रभात जी को इस आयोजन के लिए कोटिश: साधुवाद !!)

Wednesday, August 1, 2012

रक्षाबंधन पर भाई देंगें बहनों को सोने के सिक्के : डाक विभाग द्वारा सोने के सिक्कों पर 6.5 प्रतिशत की विशेष छूट

डाक विभाग ने इस बार रक्षा बन्धन के लिए विशेष तैयारियां की है। एक तरफ राखी भेजने के लिए वाटर प्रूफ डिजायनर लिफाफे और राखी डाक की बुकिंग व वितरण हेतु तमाम प्रबंध किये गये है वहीं रक्षाबन्धन के शुभ अवसर पर सोने के सिक्कों की खरीद पर विशेष छूट देने का भी निर्णय लिया है। इस संबंध में जानकारी देते हुए इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि रक्षाबन्धन के दिन डाकघरों से सोने के सिक्कों की बिक्री पर विशेष छूट दी जायेगी। डाक विभाग के लोगो वाले सोने के सिक्के 24 कैरेट (99.९९%) शुद्ध सोने से निर्मित तथा वैलकैम्बी स्विटजरलैंड द्वारा प्रमाणित है। चयनित डाक घरों में 0.5 ग्राम, 1 ग्राम, 5 ग्राम, 8 ग्राम, 10 ग्राम, 20 ग्राम व 50 ग्राम के सोने के सिक्के बिक्री के लिए उपलब्ध रहेंगें। यह विशेष छूट केवल 1 अगस्त, 2012 (रक्षा बंधन से एक दिन पूर्व) के लिए ही मान्य हैं।

निदेशक श्री यादव ने बताया कि यह सुविधा सभी चयनित डाकघरों में उपलब्ध कराइ जा रही है. इनमें इलाहाबाद परिक्षेत्र में इलाहाबाद प्रधान डाकघर, कचेहरी प्रधान डाकघर, हंडिया व फूलपुर डाकघर, प्रतापगढ़ प्रधान डाकघर, मिर्जापुर प्रधान डाकघर, ओबरा व शक्तिनगर डाकघर, जौनपुर प्रधान डाकघर, गाजीपुर प्रधान डाकघर, वाराणसी प्रधान डाकघर, वाराणसी कैंट प्रधान डाकघर, भदोही डाकघर, चन्दौली डाकघर सहित 14 डाकघरों द्वारा सोने के सिक्कों की बिक्री की जा रही है।

भाइयों की कलाई राखी के बिना सूनी न रह जाय, इसके लिए डाकघरों में 01 व 02 अगस्त को विशेष राखी डाक वितरण के प्रबंध भी किए गये हैं। निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि आवश्यकतानुसार डाकघरों में सामान्य डाक वितरण के अलावा द्वितीय डाक वितरण के भी निर्देश दिये गये हैं।

साभार : दैनिक जागरण, 1 अगस्त 2012

Rakhi offer: Postal department offers discount on gold coins

After introducing water proof and designer envelopes and special arrangements for booking and delivery of Rakhi, the postal department has offered a special discount on purchase of gold coins.

Director postal services, Allahabad Region, Krishna Kumar Yadav said on Raksha Bandhan, a special discount of 6.5% will be given on purchase of gold coins from identified post offces. These coins have unique logo of India Post with purity rating 24 carat (99.99%) from Valcambi under Swiss certification. These coins will be available in the identified post offices in the denomination of 0.5 gm, 1 gm, 5 gm, 8 gm, 10 gm, 20 gm and 50 gm for sale. The special offer is only for August 1.

He said 14 post offices in Allahabad region have been identified for sale of gold coins are Allahabad HPO, Allahabad Kutchery HPO, Handia PO, Phulpur PO, Pratapgarh HPO, Mirzapur HPO, Obra PO, Shaktinagar PO, Jaunpur HPO, Ghazipur HPO, Varanasi HPO, Varanasi Cantt HPO, Bhadohi PO and Chandauli PO.

Yadav added that special arrangements have been made for delivery of Rakhi mails on August l and 2. He said instructions have been issued to post offices to make second delivery, if necessary, in addition to the normal delivery.

Courtesy : Times of India, 1st Aug. 2012