Wednesday, April 18, 2018

आईटी आधुनिकीकरण परियोजना के तहत कोर सिस्टम इंटीग्रेटर से जुड़े डाकघर, पोस्टऑफिस होंगे हाईटेक और डिजिटल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी के डिजिटल इण्डिया अभियान से अब डाकघर भी जुड़ेंगे। डाकघरों में कोर बैंकिंग और कोर इंश्योरेंस के बाद आईटी आधुनिकीकरण परियोजना के भाग के रूप में कोर सिस्टम इंटीग्रेटर (सीएसआई) आरम्भ किया है। जोधपुर प्रधान डाकघर और  रेल डाक सेवा कार्यालय में 17 अप्रैल, 2018 को इसका शुभारम्भ  राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के पोस्टमास्टर जनरल श्री वीसी राय और निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने ग्राहकों को स्पीड पोस्ट बुकिंग की सीएसआई जनरेटेड रसीद देकर किया। इसी के साथ राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के अधीन सभी 13 जिलों  के डाकघरों व इनके प्रशासनिक कार्यालयों में यह प्रोजेक्ट लागू हो गया है।
 पोस्टमास्टर जनरल श्री वीसी राय ने इस अवसर पर कहा कि डाकघरों में बुकिंग, वितरण, बचत व बीमा सम्बन्धी विभिन्न कार्यों के लिए अभी भिन्न-भिन्न सॉफ्टवेयरों का इस्तेमाल किया जाता है।  इन सभी को सीएसआई के तहत एक ही कॉमन प्लेटफॉर्म पर लाने से त्वरित और सुव्यवस्थित कार्य होगा तथा हम ग्राहकों को बेहतर सेवाएं प्रदान करने में सक्षम होंगे। 
डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि कोर सिस्टम इंटीग्रेटर लागू हो जाने के बाद डाक विभाग पूरी तरह से पेपरलेस (कागज रहित) कार्य करने वाला पहला सरकारी विभाग बन जाएगा। मेल ऑपरेशन, वित्त व् लेखा, इन्वेंटरी प्रक्योरमेंट,  एच. आर. और पे-रोल जैसे तमाम कार्य कोर सिस्टम इंटीग्रेशन के माध्यम से संपन्न होंगे। विभाग के सभी कागजात, कर्मचारियों की उपस्थिति, पर्सनल डाटा, सर्विस बुक, कर्मचारियों की छुट्टी आदि कार्य आनलाइन हो जाएगा। कर्मचारियों के सभी कार्यों की प्रगति विभाग के शीर्ष अफसर भी आनलाइन देख सकते हैं। कर्मचारियों को अपनी समस्याओं के निदान के लिए ऑनलाइन पोर्टल पर अपनी शिकायत/निवेदन करना होगा। साथ ही ग्राहक भी अपने घर बैठे अपनी सभी समस्याओं का निदान डाकघर की वेबसाइट के माध्यम से प्राप्त कर सकेंगे। 
श्री यादव ने कहा कि इससे भविष्य में प्रशासन की गतिविधियों जैसे भर्ती, प्रशिक्षण, पदोन्नति, वेतन और प्रदर्शन प्रबंधन में सुधार होगा। कॉल सेंटर, वेब पोर्टल और मोबाइल डिवाइसेज के माध्यम से ग्राहक सेवा प्रदान करने के साथ यह डाकघर काउंटरों की कार्यात्मकताओं को भी बढ़ाएगा और डाकघरों को पेपरलेस बनाएगा। 

जोधपुर प्रधान डाकघर  के सीनियर पोस्टमास्टर  ओपी सोडिया  ने कहा कि कोर सिस्टम इंटीग्रेटर के लिए टी.सी.एस. द्वारा सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है और इसके लिए स्टाफ को भलीभाँति ट्रेनिंग भी दी गई है, ताकि वे इसे सुचारु रूप से क्रियान्वित कर सकें। 

रेल डाक सेवा, जोधपुर के अधीक्षक श्री एल. आर. परिहार ने बताया कि आरएमएस में कोर सिस्टम इंटीग्रेटर लागू हो जाने से डाक आदान- प्रदान की प्रक्रिया पूर्णत: ऑनलाइन हो जाएगी जिससे डाक अपने गंतव्य स्थान पर तीव्र गति से पहुंचेगी।

इस अवसर पर सहायक निदेशक कान सिंह राजपुरोहित, इशरा राम,  सहायक अधीक्षक विनय खत्री, राजेंद्र सिंह भाटी, सुदर्शन सामरिया, पारसमल सुथार, संदीप मोदी, डिप्टी पोस्टमास्टर एच के गोलानी, हेड रिकोर्ड ऑफिसर पेमाराम मेवाडा, जन संपर्क निरीक्षक मो. रफीक, सिस्टम मैनेजर जितेंद्र गर्ग,  राकेश पटेल, राकेश दाधीच, विनय तातेड़,  विजय सिंह  सहित तमाम अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।







Monday, April 16, 2018

डाकघरों में भुगतान के लिए बचत खातों की बाध्यता ख़त्म, नकद या चेक से होगा भुगतान

डाक विभाग ने डाकघर के खाताधारकों को राहत देते हुए ब्याज और परिपक्वता राशि के भुगतान के लिए बचत खाते की अनिवार्यता ख़त्म कर दी है। राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री क़ृष्ण कुमार यादव ने बताया कि कुछ माह पहले डाक विभाग ने अपने एक आदेश के तहत डाकघर की बचत योजनाओं में परिपक्वता राशि एवं ब्याज के भुगतान के लिए डाकघर में सेविंग अकाउंट खुलवाना अनिवार्य किया था,परंतु अब विभाग ने यह बाध्यता ख़त्म कर दी है। अब पूर्व की भाँति ही सभी योजनाओं में सीधे नकद या चेक से भुगतान हो सकेगा, जिससे ग्राहकों को सुविधा मिलेगी।


राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवाएं श्री क़ृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाक विभाग ने सभी बचत योजनाओं पर ब्याज और परिपक्वता राशि के भुगतान के लिए बचत खाते की अनिवार्यता ख़त्म कर दी है। डाकघरों की मासिक आय योजना, सावधि जमा खाता, सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम, और आरडी खाता आदि सभी स्कीम के लिए अब ग्राहक किसी भी प्रकार का बचत खाता खोलने के लिए बाध्य नहीं होंगे। उन्हें  सभी राशियों का भुगतान चेक या नकद में प्राप्त हो सकेगा। पहले डाक विभाग ने यह अनिवार्य कर दिया था इन योजनाओं के भुगतान के लिए डाकघरों में सेविंग अकाउंट खुलवाएं और उस बचत खाते में राशि ट्रान्सफर की जाएगी ।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि नए आदेश को वापिस लेने से पुरानी व्यवस्था यथावत रहेगी, जिसमें  डाकघर बचत योजनाओं  में 20 हजार से ज्यादा की परिपक्वता का भुगतान चेक से होता है। इससे कम की राशि नकद मिलती है जिसमें  ब्याज भी शामिल है। यदि कोई ग्राहक अपने डाकघर बचत खाते में परिपक्वता राशि, ब्याज ट्रान्सफर करवाना चाहता  है तो राशि उसके बचत खाते में ट्रान्सफर कर दी जाएगी।





Wednesday, April 11, 2018

दृढ इच्छाशक्ति व मौलिक चिंतन से सिविल सर्विसेज में सफलता पाना आसान -डाक निदेशक केके यादव

परिश्रम का कोई विकल्प नहीं है और निरंतर अभ्यास ही सफलता की कुंजी है। हमारी इच्छाशक्ति जितनी मजबूत होगी, उतनी ही तेजी से हम मंजिल की तरफ बढ़ेंगे। उक्त उद्गार राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने महावीर पब्लिक स्कूल, जोधपुर के सभागार में आयोजित प्रशासनिक सेवाओं हेतु कैरियर काउंसलिंग सेमिनार  में व्यक्त किए। इस अवसर पर महावीर पब्लिक स्कूल, जोधपुर और बादलचन्द सुगनकँवर चौरड़िया सीनियर सैकंडरी गर्ल्स स्कूल, जोधपुर के लगभग 250 विद्यार्थी उपस्थित रहे।  

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने विद्यार्थियों से रूबरू होते हुए कहा कि आत्मविश्वास, धैर्य, टाइम मैनेजमेंट, मौलिक चिंतन और सकारात्मक अभिवृत्ति प्रशासनिक सेवाओं की परीक्षा की तैयारी में काफी मायने रखती हैं। आपका मूल्य इससे निर्धारित नहीं होता है कि आप क्या हैं बल्कि इससे निर्धारित होता है कि आपमें खुद को क्या बनाने की क्षमता है। दूसरों से तुलना की  बजाय स्वस्थ प्रतिस्पर्धा कैरियर में हमेशा सहायक होती है। श्री यादव ने कहा कि इन्टरनेट और सोशल मीडिया के इस दौर में सूचनाओं का प्रवाह बड़ी तेजी से हो रहा है और इस प्रवाह को अपनी क्षमता से ज्ञान में बदलने की जरूरत है। सिर्फ किताबी पन्नों में खोने की बजाए जीवन की वास्तविकताओं का एहसास होना चाहिए।

Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Rajasthan Western Region, Jodhpur addressing the students for a Workshop on Career counseling in the field of Civil Services in association with Marugoonj at Mahaveer Public School, Jodhpur
सिविल सर्विसेज में अपने अनुभवों को साझा करते हुए निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि बाहर से बड़ी आकर्षक दिखने वाली इन सेवाओं में उतनी ही बड़ी जिम्मेदारियाँ और चुनौतियाँ भी है, ये चुनौतियां ही फील्ड में किसी अधिकारी की कार्यक्षमता और लोकप्रियता को निर्धारित करती हैं। एक प्रशासनिक अधिकारी से सामाजिक समस्याओं और अपने परिवेश के प्रति ज्यादा संवेदनशीलता की  आशा की जाती है। हिन्दी बनाम अंग्रेजी माध्यम पर श्री यादव ने कहा कि भाषा महज अभिव्यक्तियों का साधन है और जिस भाषा में आपकी अभिव्यक्ति सहज हो उसे ही चुनना बेहतर होता है।

इस अवसर पर श्री यादव ने विद्यार्थियों से संवाद किया और उनके सवालों के जबाव भी दिए। कार्यक्रम का संयोजन मरूगूँज के श्री रोहित उपाध्याय,  संचालन सुश्री माला डागा और आभार ज्ञापन महावीर पब्लिक स्कूल की प्रधानाचार्या श्रीमती स्वाति मेहता ने किया। 

मौलिक चिंतन से सफलता सम्भव -डाक निदेशक केके यादव

कैरियर काउंसलिंग सेमिनार में विद्यार्थियों से रूबरू हुए डाक निदेशक केके यादव
हमारी इच्छा शक्ति जितनी मजबूत होगी, उतनी ही तेजी से हम मंजिल की तरफ बढ़ेंगे -डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव


प्रशासनिक सेवाओं हेतु कैरियर काउंसलिंग सेमिनार में विद्यार्थियों से रूबरू हुए डाक निदेशक केके यादव
किताबी पन्नों में खोने की बजाए जीवन की वास्तविकताओं का भी हो एहसास -डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव

निरंतर अभ्यास सफलता की कुंजी -डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव

दृढ इच्छाशक्ति व मौलिक चिंतन से सिविल सर्विसेज में सफलता पाना आसान -डाक निदेशक केके यादव





पोस्ट ऑफिस अकाउंट्स को इंडियन पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) से लिंक करने की मिली अनुमति

यदि डाकघर में आपका बचत खाता है तो आपके लिए यह खुशखबरी है।  देश के करीब 34 करोड़ पोस्ट ऑफिस सेविंग्स अकाउंट होल्डर्स मई से सारी सर्विसेज ऑनलाइन ले पाएंगे। सरकार ने पोस्ट ऑफिस अकाउंट्स को इंडियन पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) से लिंक करने की अनुमति दे दी है। मई से पोस्ट ऑफिस के खाताधारकों को भी डिजिटल बैंकिंग सर्विसेज लेने का मौका मिल जाएगा। 
वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, 'वित्त मंत्रालय  ने पोस्ट ऑफिस के बैंक खातों को IPPB से लिंक करने की अनुमति दे दी है। यानी अब पोस्ट ऑफिस के खाताधारक भी ऑनलाइन अपने अकाउंट से दूसरे अकाउंट में पैसे ट्रांसफर पाएंगे।' 34 करोड़ सेविंग अकाउंट्स में से 17 करोड़ पोस्ट ऑफिस सेविंग्स बैंक अकाउंट्स हैं और बाकी मासिक इनकम स्कीम्स और आरडी आदि के हैं।

सरकार के इस कदम से देश का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क भी बनेगा क्योंकि भारतीय डाक 1.55 लाख पोस्ट ऑफिस की ब्रांचों को IPPB से लिंक करने की योजना भी बना रहा है। भारतीय डाक ने अहम बैंकिंग सर्विसेज की शुरुआत तो कर दी है लेकिन अभी पैसा ट्रांसफर केवल पोस्ट ऑफिस सेविंग्स बैंक अकाउंट्स में ही हो सकता है। 

आधिकारिक सूत्र ने बताया, 'IPPB को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया संभालता है वहीं पोस्ट ऑफिस की बैंकिंग सर्विसेज वित्त मंत्रालय के अंतर्गत आती हैं। IPPB कस्टमर्स NEFT, RTGS और अन्य मनी ट्रांसफर सर्विसेज इस्तेमाल कर पाएंगे जो अन्य बैंकिंग कस्टमर्स करते हैं। एक बार पोस्ट ऑफिस सेविंग्स अकाउंट्स IPPB से लिंक हो गए, तब सभी कस्टमर्स दूसरे बैंकों की तरह ही कैश ट्रांसफर की सभी सर्विसेज इस्तेमाल कर पाएंगे।'
सूत्र ने बताया कि भारतीय डाक  मई-2018 से  सभी खाताधारकों को इस सुविधा का लाभ उठाने का मौका देगा। यह सर्विस पूरी तरह से वैकल्पिक है, अगर पोस्ट ऑफिस खाताधारक इसे अपनाना चाहेंगे तो उनके खाते को IPPB से लिंक कर दिया जाएगा। 

भारतीय डाक की योजना  इस महीने से सभी 650 IPPB शाखाओं को शुरू करने की  है। ये सभी 650 ब्रांच जिलों के छोटे पोस्ट ऑफिसों से जुड़ेंगे। सभी IPPB ब्रांच और सभी एक्सेस पॉइंट्स पोस्ट नेटवर्क से जुड़ेंगे। देश में अभी 1.55 लाख पोस्ट ऑफिस हैं जिसमें से 1.3 लाख ग्रामीण इलाकों में हैं। 1.55 लाख शाखाओं के साथ भारतीय डाक देश का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क बना लेगा। 

Post office savings account customers can soon avail full digital banking service through IPPB

Around 34-crore Post Office savings account holders will be able to avail a full-fledged digital banking service from May as the government has approved linking such accounts with that of India Post Payments Bank (IPPB). 

"The finance ministry has approved linking of savings bank accounts at post offices with IPPB accounts. This will enable post office account holders to transfer money from their account to any bank accounts...," an official source told PTI. 

The 34 crore  savings accounts comprise 17 crore post office savings bank accounts and rest are those subscribed monthly income scheme, recurring deposits etc. 

The move also paves the way for creating of country's largest banking network as India Post has plans to link all 1.55 lakh post office branches with the IPPB. 

India Post has has started core banking service but it offers money transfer service within post office savings bank (POSB) accounts. 

"IPPB is governed by Reserve Bank of India and banking service of post offices comes under the finance ministry. IPPB customers can use NEFT, RTGS and other money transfer services as available for any banking customers. Once POSB accounts are linked with IPPB, customers will be able to enjoy all money transfer service like other banks," the source said. 


He said that by May, India Post will give option to POSB account customers to avail this facility. 

"The service will be optional. If post office account holders opt for it, their account will be linked to their IPPB account," the source said. 

As per an official statement issued earlier, India Post plans to start functioning of all 650 IPPB branches from this month. All 650 branches will be connected to smaller post offices in the districts. 


"IPPB branches and all the access points will be linked to postal network which has 1.55 lakh post offices in total. Out of this, 1.3 lakh branches are in rural area," the source said. 

With 1.55 lakh branches, India Post will be able to create country's largest banking network. 

"In the second phase, starting September, account holders in post office will have an option to pay for post office products from their IPPB accounts including deposit money for Sukanya Samridhi Yojana,   recurring deposits, speed post, etc," he said. 

Also, the IPPB will start registering merchants who will accept payment from its customer with help of application. The IPPB customers will be able to make payments to various merchants like grocery store, tickets etc with help of their app, the source said. 

Courtesy : PTI

Monday, April 9, 2018

डाकघरों में आधार कार्ड बनवाना हुआ आसान, राजस्थान में 650 डाकघरों में आरम्भ हुई सुविधा -डाक निदेशक केके यादव

आधार कार्ड बनवाने के लिए अब लोगों को भटकना नहीं पड़ेगा, बल्कि अब लोग अपने नजदीकी डाकघर में आधार कार्ड बनवा सकेंगे। इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि राजस्थान में 650 और पश्चिमी राजस्थान के 248 डाकघरों में यह सुविधा आरम्भ की गई है। इसी क्रम में जोधपुर जिले के प्रधान डाकघर व शास्त्रीनगर मुख्य डाकघर सहित 26 डाकघरों में आधार नामांकन एवं अपडेशन केंद्र शुरू किये गए हैं। श्री यादव ने कहा कि राजस्थान के सभी जिलों में द्विपदीय विभागीय डाकघरों के स्तर तक के सभी डाकघरों में इसे नागरिकों  की सुविधा हेतु आरम्भ किया गया है।  
डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाकघरों में नये आधार कार्ड बनवाने हेतु आवेदनकर्ता को कोई शुल्क नहीं देना होगा। उन्हें अपना पहचान पत्र और पते का प्रमाण पत्र देना होगा। वोटर कार्ड, राशनकार्ड, पासपोर्ट व ड्राइविंग लाइसेंस पहचान और पते के कॉमन प्रमाण हैं। श्री यादव ने  बताया कि बच्चों  के आधार रजिस्ट्रेशन हेतु जन्म प्रमाण पत्र के साथ माता या पिता का आधार देना होगा। 15 वर्ष की आयु पर बच्चों का बायोमेट्रिक अपडेट डाकघरों में पुन: करवाना होगा।  

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि नागरिकों को अपने पूर्व में बने आधार कार्ड  में नाम, पते, उम्र, जन्मतिथि, लिंग, मोबाईल नंबर, ई-मेल आईडी इत्यादि अपडेट कराने हेतु शुल्क 25 रूपये और जीएसटी देना होगा। आधारकार्ड के कलर प्रिन्ट हेतु 20 रूपये और जीएसटी तथा ब्लैक एण्ड व्हाईट प्रिंट के लिए शुल्क 10 रूपये व जीएसटी देना होगा। 

जोधपुर मंडल के प्रवर डाक अधीक्षक श्री बी. आर. सुथार ने  बताया कि जोधपुर शहर के प्रधान डाकघर, शास्त्री नगर, नंदनवन, रेजीडेंसी रोड, कचहरी, जोधपुर सिटी, चौपासनी रोड, गिरदीकोट, कबूतरों का चौक, महामंदिर, सूरसागर, कृषि उपजमंडी भगत की कोठी, कृषि उपजमंडी मंडोर रोड, सारणनगर, बनाड, पाल एवं बीएसएफ़ ट्रेनिंग सेंटर स्थित उपडाकघर में आधार नामांकन एवं अपडेशन केंद्र स्थापित किए है। इसके अलावा जोधपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में पीपाड़, भोपालगढ़, तिवरी, ओसियां, फलोदी, लूनी, बिलाड़ा, बालेसर एवं शेरगढ़ स्थित डाकघरों में आधार नामांकन एवं अपडेशन केंद्र स्थापित किए हैं।  






जोधपुर जिले के प्रधान डाकघर व शास्त्रीनगर मुख्य डाकघर सहित 26 डाकघरों में बन सकेगा आधार कार्ड -डाक निदेशक केके यादव

Friday, April 6, 2018

पश्चिमी राजस्थान का 300 वाँ ‘संपूर्ण सुकन्या समृद्धि गाँव’ बना सिरोही का गोयली गाँव, डाक निदेशक केके यादव ने की घोषणा

डाक विभाग प्रधानमंत्री मोदी जी की "डिजिटल इण्डिया" और "वित्तीय समावेशन" संकल्पना को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है। देश के हर कोने में, हर दरवाजे पर डाक विभाग की पहुँच है और वह लोगों के सुख-दुःख में बराबर रूप से जुड़ा हुआ है। डाक सेवाएं नवीनतम टेक्नोलोजी अपनाते हुए नित्य नए आयाम रच रही हैं। उक्त उद्गार बतौर मुख्य अतिथि श्री कृष्ण कुमार यादव, निदेशक डाक सेवाएं, राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर ने 26 मार्च 2018 को सिरोही के गोयली गाँव में आयोजित वृहद डाक मेले में व्यक्त किये।
इस अवसर पर डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने  सिरोही के गोयली गाँव को सिरोही डाक मंडल का 100 वाँ और राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र का 300 वाँ ‘सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि गाँव’ घोषित किया, जहाँ  गाँव की 10 वर्ष तक की सभी योग्य बालिकाओं के सुकन्या खाते डाकघर में खोले गए। 

इस पहल पर डाक निदेशक श्री यादव का नगरपरिषद सभापति श्री ताराराम माली के नेतृत्व में ग्रामवासियों और एलुमनी नवोदय प्रगति संगठन, सिरोही ने अभिनंदन किया। 



डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि सिरोही में केंद्र सरकार की तमाम अग्रणी योजनाओं को डाक विभाग के माध्यम से प्रमुखता से लागू किया गया है। 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के तहत सिरोही डाक मंडल में लगभग 39 हजार बेटियों के सुकन्या खाते खोलने के साथ-साथ 100 गाँवों को शत-प्रतिशत सुकन्या समृद्धि गाँव बनाया जा चुका है। जबकि पूरे राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र में सुकन्या समृद्धि योजना के कुल 2 लाख 12 हजार खाते खोले गए हैं  और 300 गाँवों को संपूर्ण सुकन्या समृद्धि गाँव बनाया जा चुका है। उन्होंने कहा कि आधार की सुगमता के लिए सिरोही के प्रधान डाकघर सहित द्विपदीय डाकघरों तक कुल 20 आधार एनरोलमेंट एवं अपडेशन सेटर खोले गए हैं। सिरोही के अचलगढ़ एवं जालोर के बोरवाड़ा गाँव को "सम्पूर्ण बीमा ग्राम" बनाया जा चुका है। डाक सेवाओं ने जन सरोकार के साथ नित्य नए आयाम रचे हैं।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि सिरोही प्रधान डाकघर  में शीघ्र ही इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक खोला जाएगा, जिससे विभाग की सेवा और पहुँच में और भी इजाफा होगा। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक से उपभोक्ताओं के लिए आसान, कम कीमतों, गुणवत्तायुक्त वित्तीय सेवाओं की आसानी से पहुंच के लिए विभाग के विस्तृत नेटवर्क और संसाधनों का लाभ मिलेगा। इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक गांवों, कस्बों और दूरदराज के इलाकों में बैंकिंग सुविधाओं से वंचित तथा कम बैंकिंग वाले इलाकों में भुगतान बैंक के जरिए लोगों में अपनी पैठ बनाएगा।

वित्तीय समावेशन की पहल पर डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाकघरों में हर वर्ग और उम्र के हर पड़ाव के लिए अलग-अलग बचत और बीमा योजनाएँ हैं और इनमें लोग पीढ़ी दर पीढ़ी पैसे जमा करते हैं। देश में मुख्यधारा से वंचित लोगों व उनके परिवारों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से आरम्भ अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना एवं प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन में भी डाकघरों द्वारा  सक्रिय भूमिका के निर्वहन का श्री यादव ने उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि ई-कामर्स को बढ़ावा देने हेतु कैश ऑन डिलीवरी, लेटर बाक्स से नियमित डाक निकालने हेतु नन्यथा मोबाईल एप, सभी शाखा डाकघरों को दर्पण प्रोजेक्ट के तहत हाइटेक बनाने जैसे कदम विभाग की "डिजिटल इण्डिया" के तहत की गई पहल हैं।
कार्यक्रम में सिरोही नगरपरिषद के सभापति श्री ताराराम माली ने कहा कि डाक विभाग भारत सरकार के सबसे पुराने विभागों में से है। आमजन आज भी डाकघरों को ज्यादा सहज व कस्टमर-फ्रेंडली पाते हैं । 
सिरोही मंडल के डाक अधीक्षक डी. आर. पुरोहित ने कहा कि डाक विभाग अपने ग्राहकों को बेहतर सेवा देने के लिए तत्पर है और इस दिशा में लोगों से समय-समय पर संवाद के साथ-साथ विभाग ने अपनी सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार पर भी जोर दिया है। 
डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर तमाम योजनाओं के लाभार्थियों को पासबुक/बॉन्ड प्रदान किये और सरपंच श्री रतनसिंह सोलंकी एवं शाखा डाकपाल श्री कछुआ राम को सम्मानित किया। इस अवसर पर उप सरपंच लक्ष्मण सिंह सोलंकी, सहायक डाक अधीक्षक भागीरथ सिंह राजपुरोहित, अखाराम, राजेंद्र सिंह भाटी, डाक निरीक्षक मोहित यादव, सत्येंद्र सिंह, सिरोही प्रधान डाकघर के पोस्टमास्टर सी. आर. मीणा, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक मैनेजर किशन गेहलोत सहित तमाम अधिकारी-कर्मचारी और गांववासी उपस्थित रहे।







Monday, April 2, 2018

अब सिरोही-जालोर के लोगों को मिलेगी पाली प्रधान डाकघर में पासपोर्ट सेवा की सुविधा- डाक निदेशक के.के. यादव

राजस्थान में सिरोही और जालोर जिले के लोगों को अब पासपोर्ट के लिए जोधपुर, उदयपुर या जयपुर जाने की जरूरत नहीं है, बल्कि अब नजदीकी जिले पाली के प्रधान डाकघर में भी यहाँ के लोगों का पासपोर्ट बन सकेगा। दूरदराज के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की सुविधा के लिए और पासपोर्ट को हर किसी की पहुँच के अंदर बनाने के लिए डाकघरों में पोस्ट ऑफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र आरंभ किए गए हैं। यह बात सिरोही-जालोर डाक मंडल के दौरे पर पधारे राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने कही। 
डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग और विदेश मंत्रालय के संयुक्त तत्वावधान में राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के अधीन 13 जिलों में अब तक 9 पोस्ट ऑफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र आरम्भ किये गए हैं। सिरोही और जालोर के नजदीक पाली के प्रधान डाकघर में पोस्ट ऑफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र आरंभ किया गया है। यह केंद्र शुरू होने के पश्चात सिरोही और जालोर जिले के नागरिक अपना पासपोर्ट प्रधान डाकघर पाली में जाकर बनवा सकते हैं। इससे समय और संसाधन दोनों की बचत होगी और लोगों को रोजगार के लिए आसानी से विदेश जाने के अवसर मिलेंगे।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि पासपोर्ट के आवेदक को पहले www.passportindia.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। साथ ही केंद्र के रूप में पोस्ट ऑफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र, पाली को सलेक्ट करना होगा और 1500 सौ रुपए ऑनलाइन शुल्क जमा करना होगा। उसी दौरान उसे पाँच तिथि दी जाएगी जिसमें से कोई एक दिन पर आवेदक को अपनी सुविधानुसार चयन करना होगा। इसके बाद एआरएन नंबर के साथ आवेदक के मोबाइल पर एप्वाइंटमेंट का समय और दिनांक का मैसेज आएगा। निर्धारित समय और दिनांक को आवश्यक दस्तावेज के साथ आवेदक को पोस्ट ऑफिस पासपोर्ट सेवा केंन्द्र, पाली जाना होगा। श्री यादव कहा कि प्रधान डाकघर पाली में आवेदक का फिंगर प्रिंट्स, फोटो तथा दस्तावेज वेरीफिकेशन किया जाएगा। इसके बाद पुलिस सत्यापन होगा। करीब 20 से 25 दिन में पासपोर्ट तैयार कर आवेदक के घर स्पीड पोस्ट के माध्यम से भेज दिया जाएगा। श्री यादव ने बताया कि पोस्ट ऑफिस पासपोर्ट सेवा केंद्रों  पर फिलहाल तत्काल पासपोर्ट की सुविधा उपलब्ध नहीं है।