Monday, February 19, 2018

पोस्टमैन बनने के लिए पीएचडी और बीटेक डिग्रीधारी युवा भी होड़ में

जिस पद के लिए अहर्ता मात्र 10 वीं पास है, उसके लिए उच्च शिक्षा प्राप्त - एम.ए., एम.एस.सी और यहाँ तक कि बी-टेक की डिग्री लिए युवा इंजीनियर भी आवेदन कर रहे हैं।  यह नजारा देखने को मिला राजस्थान डाक परिमंडल द्वारा रविवार, 18  फरवरी, 2018 को आयोजित हुई पोस्टमैन और मेल गार्ड्स की परीक्षा में। राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि राजस्थान में 126  पोस्टमैन और 03  मेल गार्ड पदों पर नियुक्ति के लिए राज्य भर से कुल 1,16, 536  लोगों ने आवेदन किया था। इसके लिए सात जिलों जोधपुर, बीकानेर, जयपुर, अलवर, कोटा, उदयपुर और अजमेर में परीक्षा कराई गई।
निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि पश्चिमी राजस्थान के अधीन जोधपुर में 24 और बीकानेर में 19  केंद्रों पर परीक्षा शांतिपूर्वक और सौहाद्रपूर्ण माहौल में संपन्न हुई। जोधपुर में 10,144 के सापेक्ष 6,210 और बीकानेर में 6,360  के सापेक्ष 3,716 अभ्यर्थी शामिल हुए। तमाम महिलाओं और दिव्यांगों ने भी पोस्टमैन बनने के लिए परीक्षा दी। इस दौरान डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने  तमाम परीक्षा केंद्रों का दौरा कर उनका जायजा भी लिया। किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए सभी केंद्रों पर पुलिस भी मुस्तैद रही।
डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि इस परीक्षा में मेरिट में स्थान पाने वाले परीक्षार्थियों का ही अंतिम आधार पर चयन किया जायेगा। 12  बजे से 2  बजे तक हुई वस्तुनिष्ठ श्रेणी की इस परीक्षा में  25-25 अंक के चार खण्ड शामिल थे जिनमें  सामान्य ज्ञान, गणित, अंग्रेजी व हिन्दी से सम्बंधित  प्रश्न शामिल थे। सामान्य श्रेणी के परीक्षार्थियों को परीक्षा उत्तीर्ण करने हेतु 10 अंक, अन्य पिछड़ी जाति के परीक्षार्थियों के लिए 9 अंक व अनुसूचित जाति/जनजाति के परीक्षार्थियों के लिए न्यूनतम 8 अंक प्रत्येक खण्ड में प्राप्त करना अनिवार्य है।

बीटेक डिग्रीधारी और हाईटेक युवाओं द्वारा पोस्टमैन की परीक्षा दिए जाने पर डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि आज का पोस्टमैन भी टेक्नॉलाजी से जुड़ा हुआ है और उसे अपना कार्य सुचारू रूप से सम्पादित करने हेतु कंप्यूटर का ज्ञान आवश्यक है। समाज में डाकिया की अपनी अलग ही प्रतिष्ठा है और सरकारी सेवा के स्थायित्व के साथ-साथ उसका वेतन भी कई निजी कंपनियों से बढ़िया और आकर्षक है। पहली पोस्टिंग में उसे लगभग 25  हजार रूपये वेतन-भत्ता  मिलता है।  डाक निदेशक श्री केके यादव ने कहा कि डाक विभाग आई. टी. मॉडर्नाइजेशन के दौर से गुजर रहा है और ऐसे में यदि बीटेक डिग्रीधारी और हाईटेक युवा विभाग में आते हैं या पोस्टमैन बनने के लिए आकर्षित होते हैं तो इसे एक शुभ संकेत के रूप में देखा जाना चाहिए।







राजस्थान में पोस्टमैन बनने के लिए हुई परीक्षा : पीएचडी और बीटेक डिग्रीधारी भी डाकिया बनने की कतार में
राजस्थान में 129 पोस्टमैनों की भर्ती हेतु 1 लाख 16 हजार लोगों ने किया आवेदन

Sunday, February 18, 2018

डाक विभाग की पहल : राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र का 202वां सुकन्या समृद्धि ग्राम बना बीकानेर का कोलासर गाँव

आज का दौर बेटियों का है। बेटियाँ समाज में नित नये मुकाम हासिल कर रही हैं। बेटियाँ पढेंगी तो बेटियां बढ़ेंगी, पर इसके लिए जरुरी है कि उनकी उच्च शिक्षा के लिए पर्याप्त प्रबंध किये जाएँ। 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के तहत ही डाकघरों में सुकन्या समृद्धि योजना आरंभ की गयी है। उक्त उदगार राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने मुख्य अतिथि के रूप में बीकानेर जिले के कोलासर गाँव को “सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि योजना ग्राम” घोषित करने के अवसर पर 17 फरवरी, 2018 को आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त किये। श्री यादव ने कहा कि सभी योग्य 126 बालिकाओं के सुकन्या खाते खोलकर राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के 202 वें “सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि योजना ग्राम” के रूप में कोलासर गाँव अन्य गाँवों के लिए एक नजीर बनेगा।


डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने  कहा कि सुकन्या समृद्धि योजना सिर्फ निवेश का एक माध्यम नहीं है, बल्कि यह बालिकाओं के उज्ज्वल व समृद्ध भविष्य से भी जुड़ा हुआ है। इस योज़ना के आर्थिक के साथ साथ सामाजिक आयाम भी महत्वपूर्ण हैं। इसमे जमा धनराशि पूर्णतया बेटियों के लिए ही होगी, जो उनकी शिक्षा, कैरियर  एवं विवाह में उपयोगी होगी। यह योजना बालिकाओं के सशक्तिकरण के द्वारा भविष्य में महिला सशक्तिकरण को भी बढ़ावा देगी। डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने  बताया  कि राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के अधीन डाकघरों में बालिकाओं के लगभग 2 लाख 10 हजार सुकन्या समृद्धि खाते खोले गए हैं, जिनमें  करीब 123 करोड़ रूपये जमा हुए हैं। 


डाक निदेशक श्री क़ृष्ण कुमार यादव ने कहा कि कोर बैंकिंग सेवा से जुड़ने के बाद डीबीटी (प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण) योजना के तहत अब डाकघर बचत खातों में 'गैस सब्सिडी' और 'प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना' की राशि भी जमा होगी। 'गैस सब्सिडी'  हेतु खाताधारक को आधार नंबर के साथ एक सहमति पत्र भर कर देना होगा जिससे डाकघर बचत खाते को एलपीजी सब्सिडी हेतु अधिकृत किया जा सके। इसी प्रकार 'प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना' के अंतर्गत सरकार पहले जीवित बच्चे के जन्म के लिए गर्भवती और स्तनपान करने वाली माताओं को 5,000 रुपए की सहायता प्रदान करवाएगी। इसके लिए माताओं को डाकघर में बचत खाता खुलवाकर आधार नंबर से अपडेट करवाना होगा। डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने उपभोक्ताओं से  डाकघर में खुले अपने बचत खाते को आधार और मोबाइल नंबर से शीघ्र जुड़वाने की अपील की, जिससे भविष्य में आने वाली सभी सरकारी योजनाओं का लाभ ग्राहकों को मिल सके। मोबाइल नंबर को खातों में जुडवाने से प्रत्येक जमा एवं निकासी की सूचना भी एसएमएस द्वारा उनके मोबाइल पर आ जाएगी।
इस अवसर पर बीकानेर डाक मण्डल के अधीक्षक डाकघर श्री जी. एन. कनवारिया ने कहा कि बीकानेर डाक मंडल में सुकन्या समृद्धि योजना के अब तक कुल 15 हजार खाते खोले गए हैं,जिनमें लगभग 11 करोड़ 16 लाख रूपये जमा किये गए हैं। उन्होंने कहा कि बीकानेर जिले में  दस गाँवों को सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि गाँव घोषित किया जा चुका है और  इस वित्तीय वर्ष के अंत तक ज्यादा से ज्यादा बालिकाओं को सुकन्या समृद्धि योजना से जोड़ा जायेगा।
कोलासर गाँव की सरपंच श्रीमती रेखा मेघवाल ने कहा कि ग्रामवासियों के लिए यह अत्यन्त गर्व की बात है कि  “सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि योजना ग्राम” बनकर कोलासर गाँव  “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ” अभियान को मूर्त रूप दे रहा है।  इस अवसर पर पूर्व सरपंच कोलासर ग्राम पंचायत श्री राधेश्याम उपाध्याय एवं भाजपा देहात बीकानेर के महामंत्री श्री आसकरण उपाध्याय ने भी सम्बोधित किया। 

इससे पूर्व कोलासर गाँव पहुँचने पर ग्रामवासियों ने डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव का फूल-मालाओं से स्वागत कर कोलासर गाँव को संपूर्ण सुकन्या समृद्धि ग्राम बनाने पर स्वागत किया और आभार जताया। 
इस अवसर पर डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बालिकाओं को पासबुकें व उपहार देकर उनके सुखी व समृद्ध भविष्य की कामना की। इस अवसर पर सहायक डाक अधीक्षक देवीलाल सहारण, मीनू पारीक, राजेंद्र सिंह भाटी,डाक निरीक्षक अरुण कुमार सोलंकी,कमल गुप्ता,शाखा डाकपाल छोटमल पाईवाल सहित तमाम अधिकारीगण, स्थानीय जनप्रतिनिधि और ग्रामवासी उपस्थित रहे।

Thursday, February 15, 2018

ऑल इंडिया सिविल सर्विसेज एथलेटिक्स टूर्नामेंट में डाक विभाग जोधपुर का जलवा, स्नेहा जैन को सर्वश्रेष्ठ एथलीट का खिताब

ऑल इंडिया सिविल सर्विसेज एथलेटिक्स टूर्नामेंट, 2017-18 में डाक विभाग, जोधपुर  के खिलाड़ियों ने सफलता के परचम लहराए। आंध्रप्रदेश  के गुंटूर में आयोजित इस टूर्नामेंट में इन्होंने  5 गोल्ड, 1 सिल्वर और 1 ब्रोंज सहित 7 मेडल प्राप्त किये। 
इस अवसर पर विजेताओं  ने राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव से मुलाकात कर उन्हें अपने मेडल दिखाए और अनुभव शेयर किये। श्री यादव ने  पदक विजेताओं को शुभकामनायें देते हुए भविष्य में भी ऐसा ही जज्बा बरकरार रखने की सीख दी। 

पोस्टमास्टर जनरल, जोधपुर कार्यालय में कार्यरत डाक सहायक श्रीमती स्नेहा जैन ने 4x100 मीटर, 100 मीटर और 200 मीटर में स्वर्ण व 4x400 मीटर में कांस्य पदक, डाक सहायक श्रीमती  सुनीता ने 4x100 मीटर में स्वर्ण व 400 मीटर बाधा दौड़ में रजत पदक, रेल डाक सेवा जोधपुर में कार्यरत एम.टी.एस  श्री राजकुमार ने 800 मीटर में स्वर्ण पदक हासिल किया। 

इसके साथ ही कीर्तिमान रचते हुये राजस्थान ने प्रतियोगिता की महिला चैंपियनशिप भी हासिल की और श्रीमती स्नेहा जैन ने सर्वश्रेष्ठ एथलीट का खिताब जीता। इस टूर्नामेंट में डाक विभाग, इनकम टैक्स, कस्टम एवं सेंट्रल एक्साइज़ सहित कई केंद्र व राज्य सरकार के विभागों ने भाग लिया। 




Saturday, February 10, 2018

अब आपके शुभ विवाह पर भी जारी हो सकेगा डाक टिकट, नव युगल की खूबसूरत तस्वीर होगी डाक टिकट पर

आजकल शादियों का सीजन जोरों पर है।  हर कोई अपनी शादी को यादगार बनाने के लिए कुछ अनूठा करना चाहता है। पर कभी आपने सोचा है कि आपकी शादी पर डाक टिकट भी जारी हो सकता है। पर अब यह सम्भव है। इस सम्बन्ध में जानकारी  देते हुए राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि  डाक विभाग की 'माई स्टैम्प' सेवा के तहत लोग अपनी शादी पर यादगार रूप में डाक टिकट भी जारी करवा सकते हैं। 
निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि पाँंच रुपए के डाक-टिकट, जिस पर विवाहित नव युगल की खूबसूरत तस्वीर होगी, वह देशभर में कहीं भी भेजी जा सकती है। इस डाक टिकट पर बाक़ायदा शुभ विवाह भी लिखा होगा। मात्र 300 रुपए के खर्च में 12 डाक-टिकटों की एक शीट बनवाई जा सकती है। श्री यादव ने बताया कि सभी प्रधान डाकघरों में इसके लिए संपर्क किया जा सकता है। 

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि आज की युवा पीढ़ी कुछ नया चाहती है, ऐसे में  शुभ विवाह, सालगिरह से लेकर बर्थडे तक के चित्रों पर 'माई स्टैम्प' के माध्यम से डाक टिकट जारी किया जा सकता है। आप किसी से बेशुमार प्यार करते हैं, तो इस प्यार को बेशुमार दिखाने का भी मौका है। 


जन्मदिन से लेकर विवाह और जीवन की तमाम खुशियों के पलों को माई स्टैम्प पर लाया जा सकता है। आज की युवा पीढ़ी के बीच सेल्फी का क्रेज खूब बढ़ रहा है, ऐसे में उनकी सेल्फ़ी  भी माई स्टैम्प के तहत  डाक टिकट पर स्थान पा सकती है।
















Friday, February 9, 2018

‘इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक’ पर कार्यशाला : डिजिटल व पेपरलेस आधार पर कार्य करेगा 'इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक’

'इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक’ आरम्भ करने की दिशा में डाक विभाग ने तेजी से कदम बढ़ाना शुरू कर दिया है। जोधपुर सहित राजस्थान के सभी जिला मुख्यालयों पर इसकी शाखा खोलने  के साथ-साथ सभी डाकघरों को भी इससे जोड़ा जायेगा, ताकि इसका फायदा ग्रामीण स्तर पर भी लोगों को मिल सके। उक्त उद्गार राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने   इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक पर क्षेत्रीय स्तर की एक दिवसीय कार्यशाला का शुभारम्भ करते हुए व्यक्त किये। डीआरडीए सभागार, जोधपुर में 4 फरवरी, 2018 को आयोजित इस कार्यशाला में राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के अधीन सभी 13 जिलों के मण्डलाधीक्षक के साथ-साथ सभी हेड पोस्टमास्टर्स, सहायक अधीक्षक, डाक निरीक्षक और सिस्टम मैनेजर ने भाग लिया। डाक विभाग ने मार्च के अंत तक ‘इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक’ खोलने  का लक्ष्य रखा है। 
कार्यशाला का शुभारम्भ करते हुए निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने  कहा कि  इंडिया पोस्ट पेमेंटस  बैंक से उपभोक्ताओं के लिए आसान, कम कीमतों, गुणवत्तायुक्त वित्तीय सेवाओं की आसानी से पहुंच के लिए विभाग के विस्तृत नेटवर्क और संसाधनों का लाभ मिलेगा। गांवों, कस्बों और दूरदराज के इलाकों में बैंकिंग सुविधाओं से वंचित तथा कम बैंकिंग वाले इलाकों में भुगतान बैंक के जरिए लोगों को वित्तीय समावेशन से जोड़ा जायेगा। श्री यादव ने कहा कि पेमेंट बैंक पूर्णतया डिजिटल व पेपरलेस आधार पर कार्य करेगा और इसमें ई-केवाईसी के आधार पर  खाते खोले जायेंगे। डाकघरों के खाते जहाँ बचत में मददगार हैं, वहीं पेमेंट बैंक का खाता निचले स्तर तक लोगों को डिजिटल आधार पर नित्य-प्रतिदिन के खर्च को सुगम बनाएगा। ये अपने ग्राहकों को इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा भुगतान और धन भेजने की सेवाएं मुहैया कराएँगे।  


डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि इंडिया पोस्ट पेमेंटस  बैंक से मूल बैंकिंग, भुगतान और प्रेषण सेवाएं प्रदान करने के द्वारा वित्तीय समावेशन और बीमा, म्युचुअल फंड, पेंशन और ग्रामीण क्षेत्रों एवं बैंक रहित और बैंक के अंतर्गत कार्य करने वाले क्षेत्रों पर विशेष रूप से ध्यान देते हुए तीसरे पक्ष के वित्तीय प्रदाताओं के साथ समन्वय के माध्यम से ऋण तक पहुंच जैसी सुविधाएं भी मिलेंगी। पेमेंट बैंक से डाक विभाग देश भर के सुदूर ग्रामीण हिस्सों तक अपने 1.55  लाख डाकघरों के जरिये पहुंच बनाएगा। 
इस अवसर पर सहायक डाक अधीक्षक (प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग यूनिट)  राजेंद्र सिंह भाटी ने  पॉवर प्वाइंट प्रजेंटेशन द्वारा  इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक के बारे में जानकारी दी। ये बैंक अपने ग्राहक से एक लाख रुपये तक की राशि जमा कर सकते हैं। ये एटीएम/डेबिट कार्ड जारी करेंगे, लेकिन क्रेडिट कार्ड नहीं।  

इस अवसर पर प्रवर डाक अधीक्षक जोधपुर बी. आर. सुथार, सहायक निदेशक ईशरा राम, भंवरूराम, लेखाधिकारी डी.आर. सैनी, सहायक डाक अधीक्षक  पुखराज राठौड़, राजेंद्र सिंह भाटी, सुदर्शन सामरिया, अनिल कौशिक, डाक निरीक्षक पारस मल सुथार, जगदीश सिंह, ओपी चांदोरा, विजय सिंह  सहित तमाम डाक अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।






‘इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक’ पर एक दिवसीय कार्यशाला का डाक निदेशक केके यादव ने किया शुभारम्भ 
डिजिटल व पेपरलेस आधार पर कार्य करेगा 'इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक’-डाक निदेशक केके यादव